Featured
Posted in हिंदी कविता, Food for Thought, Hindi kavita, Uncategorized

बेमौत मरती नदियां -कविता Dying Rivers- poem

The river’s ecosystem has left 65 percent of the world’s rivers in danger of losing biodiversity due to various factors.   The Sarasvati River is one of the main Rigvedic rivers mentioned in the scripture Rig Veda and ancient Sanskrit texts. Around ,  70 per cent of the sites that have been discovered to contain archaeological material dating to this civilization’s period are located on the banks of the now dried out Saraswati river.

पौराणिक कथा के अनुसार सरस्वती नदी शुष्क हो तिरोहित हो गई। इसका गहरा प्रभाव मानव जाति पर पड़ा। वर्तमान सूखी हुई सरस्वती नदी के समानांतर खुदाई में ५५००-४००० वर्ष पुराने शहर मिले हैं जिन में पीलीबंगा, कालीबंगा और लोथल भी हैं। यहाँ कई यज्ञ कुण्डों के अवशेष भी मिले हैं, जो महाभारत में वर्णित तथ्य को प्रमाणित करते हैं।ऋग्वेद के नदी सूक्त के अनुसार यह पौराणिक नदी पंजाब के पर्वतीय भाग से निकलकर कुरुक्षेत्र और राजपूताना से होते हुए प्रयाग या इलाहाबाद आकर यह गंगा तथा यमुना में मिलकर पुण्यतीर्थ त्रिवेणी कहलाती है।

 

 हम,

प्रकृति से   लेना जानते हैं पर संभालना नहीं जानते।

ना अपना भविष्य ना  अपने संतति का भविष्य,

ना इतिहास से सबक लेना चाहते है।

पौराणिक कथा के अनुसार सरस्वती नदी

शुष्क हो तिरोहित हो गई।

इस नदी के साथ ना जाने कितने

 ज्ञान , विज्ञान , सभ्यतायें लुप्त हो गईं ।

                                                          कितने नासमझ हैं हम?

 

Posted in Article on Poetry Day, Uncategorized

Happy World Poetry Day !! शुभ विश्व काव्य दिवस!!

Belated,

 World Poetry Day is on 21 March, and was declared by UNESCO (the United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization) in 1999, to promote the reading, writing, publishing and teaching of poetry throughout the world.

Posted in Uncategorized

Can We Predict Child Abuse?

DrWomer's Blog

Is there a way to predict child abuse? We use similar technology in policing to predict areas of where crime will most likely occur. Florida was part of a study conducted by SAS Global who developed the innovative software. The study conclusion was delivered to the Florida Department of Children and Families in August 2016. According to Heimpel (2017), Chronicles of Social Change Organization reported the SAS report is one of the most extensive data examination done in Florida on child abuse reports, parents information, child data along with other data to produce a predictive analysis of possible recurring child abuse adults in the cases examined.

In this author’s experience, child abuse and neglect are generational. Many cases investigated showed 3rd, 4th and 5th generations of abuse and neglect within the families. We need to be proactive to stop the abuse.

Will Jones who is the company’s child wellbeing industry…

View original post 329 more words

Posted in Hindi kavita, Uncategorized

जिंदगी के रंग-15 कविता

 

जिंदगी इम्तिहान लेती है,

पर सबक भी देती है।

अगर

सही सबक लिया जाए।

जितना ज्यादा दर्द जिंदगी देती है

उतना ही, दर्द को

समझने की समझ भी देती है।

गर

ठीक से पढ़ें जिंदगी के पन्नों को……..

 

 

 

image from internet.

 

Posted in हिंदी कविता, हिंदी कविता -समाचार आधारित, Uncategorized

कर्तव्यों की इतिश्री-कविता

The International Day of Forests was established on the 21st day of March, by resolution of the United Nations General Assembly,  and 20 March World Sparrow Day is a day designated to raise awareness of the house sparrow

(20 मार्च गौरैया दिवस, 21 मार्च अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस)

हम जो हर रोज कोई न कोई दिवस मनाते हैं

और अगले दिन भूल जाते हैं।

इस से तो अच्छे हम पहले ही थे,

जब बलखाती नदियां, फुदकती गौरैया,

सरसराती हवाएं और जंगलों की हरियाली

हमेशा सहलाती थी

और हम उसे निहारते  अौर संभांलते  थे।

आज एक दिन  याद  कर क्यों हो जाती है कर्तव्यों की इतिश्री…….???

 

green forest and Sparrow

 

 

Images from internet

Posted in व्यंग/ satire

मोबाईल फोन छुट्टी दिवस -व्यंग (Holiday for mobile phone -satire) #2

WHO and various institutions have found negative effect of excessive use of mobile on our health.

मोबाईल के छुट्टी माँगने के भयंकर सपने से जागते ही मैंने उसे अपने कलेजे से लगा लिया. अब वह हमेशा मेरे दिल के करीब रहता. शर्ट के ऊपर के पाकेट में उसका आशियाना बन गया.

इतने पर भी मेरे दिल को तसल्ली नहीँ हुई. मोबाईल के छुट्टी पर जाने की कल्पना से अक्सर दिल डर से धड़कने लगता. लोगों ने कहा धडकी की बीमारी हो गई हैं मुझे. बड़ा टोना टोटका चला. किसी ने हौलदिल पहनने कहा. मैं सीधे डॉक्टर के पास पहुँचा.

दिल का हाल अच्छा नहीँ था. मुझे सख्त आराम का निर्देश देते हुये मेरी दुनिया और मोबाईल से मुझे अलग कर, अस्पताल में भर्ती कर दिया गया.

वहाँ सचमुच मुझे बड़ी शान्ति और सुकून मिला. ना बार बार की घंटी की आवाज़ ना उसे चार्ज करने का तनाव.

घर वापस आ कर बार बार बजती मोबाईल मुझे बड़ी नागवार गुजरी. तभी मेरे मोबाईल ने बड़े व्यंग से पूछा – क्यों , अब समझ आया ? क्यों मैं छुट्टी माँग रहा था? या फिर से अस्पताल जाने और डाक्टर को पैसे देने की मर्जी हैं ?

(हौलदिल – संग यशब नाम के चौकौर पत्थर के टुकडे पर कुरान की एक विशेष आयत खुदी रहती हैं. इसे रोगोंबाधा दूर करने के लिये पहना जाता हैं.)

 

image from internet

 

Posted on July 13, 2016 •Edit \”मोबाईल फोन छुट्टी दिवस -व्यंग (Holiday for mobile phone -satire)

Source: मोबाईल फोन छुट्टी दिवस -व्यंग (Holiday for mobile phone  -satire) #2

Posted in व्यंग/ satire, हिंदी लेख, Uncategorized

मोबाईल फोन छुट्टी दिवस -व्यंग (Holiday for mobile phone -satire) #1

 

मैंने जागते के साथ बंद आँखों से अपने मोबाइल फोन की ओर हाथ बढ़ाया. हाथों में चुभन हुई. मेरी आँखें अपने आप खुल गई. आश्चर्य से देखा. मेरा मोबाइल गुस्से भरी लाल आँखों से मुझे देख रहा हैं. उसके शरीर पर काटें और सिर पर दो सींग उग आये हैं. उसके हाथों में एक बोर्ड हैं. जिस पर लिखा हैं -आज मेरा छुट्टी दिवस है.

उसने मुझे बड़ी बेरुखी से देखा और पूछा – मेरा रविवार कब हैं ? मुझे भी सप्ताह में एक दिन की छुट्टी चहिये.फिर वह अपने आप ही बुदबुदाने लगा -ना रात देखते , ना दिन. बस काम , काम और काम. मेरी ओर देख कर जोर से बोला -काम की अधिकता से मुझे बर्न आऊट सिंड्रोम हो गया हैं और उसकी सारी बत्तियां बुझ गई.

बिना मोबाईल मुझे दुनियाँ अंधकारमय लगने लगा. माथे पर पसीने की बूँदें छलक गई. अब क्या होगा ? सारी बातें तो इसी मोबाईल रूपी काले डब्बे में बंद हैं. मैं मोबाईल उठा पागलों की तरह चुभन के बाद भी बटन दबाने लगा और चिल्लाने लगा -तुम ऐसा नहीँ कर सकते हो.

तभी किसी ने कहा -नींद में इतना शोर क्यों मचा रहे हो ? मैं भयानक सपने से जाग गया. ख़याल आया बात तो सही हैं. एक दिन फोन को , और हमें फोन से एक दिन की छुट्टी ले कर देखनी चाहिये.

Source: मोबाईल फोन छुट्टी दिवस -व्यंग (Holiday for mobile phone  -satire) #1