Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

नारी (कविता)

 

 

w

नारी जब तक अबला हो, दुनिया के बनाये नियमों को 

बिना प्रश्न किये मानती जाये,

अच्छी लगती है, भोली लगती है। 

                                       सीता अौर सावित्री लगती है।

अगर भूल से भी प्रश्न करे, या ना माने 

तब कहते हैं- चरित्रहीन, पागल अौर  ना जाने क्या-क्या। 

सही कहा है, ये बातें अौर हथियार पुराने हो गये। 

नई बात तो तब होगी,  जब उसे सम्मान अौर बराबरी मिले,

                                   ईश्वर की सर्वोत्म  सुंदरतम रचना को ,

आधी आबादी को पीछे छोङ कितना आगे जायेगें हम?

 

 

images from internet.

 

 

 

Advertisements

Author:

I am PhD. in Psychology, a PGDM in HR, hold a certificate in Child Guidance and Counsel ling and a writer, not necessarily in that order. My work experience includes teaching MBA students in Usha Martin and Amity Colleges in Patna and teaching Psychology in various college of Patna to B.A. and M.A. students and to law students in Swami Vivekanand law College in Lucknow. I've also taught primary school students in DPS, Dhanbad. I got married at the age of 19, in my first year of BA Psychology Hons. I finished my studies and developed my interest in women and children studies in India. My thesis is about the urban, educated Indian women. I have written Hindi articles for Hindustan, Dhanbad and the MA Psychology study course for Nalanda Open University in Patna. My interest in writing is something that happened subconsciously. But lately, after having written deep, psychological and spiritual articles and having produced books for Post Graduate Psychology students, I realized how much I love writing for children. I find it refreshing and heartening to write about their innocence, faith, fears and fearlessness. My two daughters have grown on a staple diet of magic and fairy tales and I must confess that I have enjoyed their childhood perhaps more than they did themselves. I wish to keep writing for these little people who are the bright future of our country, our civilization and our world.

28 thoughts on “नारी (कविता)

  1. नारी को पुरुषों ने अक्सर अपने पाँव की जूती और अपना गुलाम समझा है, पर शायद वो ये भूल जाते है की अगर नारी ना होती, तो वो भी ना होते।
    आपकी बहुत ही लाजवाब प्रस्तुति, और आज ही मैं नारियोँ को 2 पंक्ति समर्पित करना चाहूँगा-
    “लोग मुझे दबाने चले थे मिट्टी में,
    पर वो भूल गए की मैं एक बीज हूँ,
    एक दिन पेड़ का आकार लेकर उभरूँगी।।



    मुझे एक बात पूछनी है यँहा अपने “सीता” लिखा है, शायद लिखने में गलती हुई है आप “सती” तो नही लिखना छह रही थी।
    मुझे माफ़ करियेगा अगर मुझे गलत लगा हो तो।

    Liked by 1 person

  2. नारी को पुरुषों ने अक्सर अपने पाँव की जूती और अपना गुलाम समझा है, पर शायद वो ये भूल जाते है की अगर नारी ना होती, तो वो भी ना होते।
    आपकी बहुत ही लाजवाब प्रस्तुति, और आज ही मैं नारियोँ को 2 पंक्ति समर्पित करना चाहूँगा-
    “लोग मुझे दबाने चले थे मिट्टी में,
    पर वो भूल गए की मैं एक बीज हूँ,
    एक दिन पेड़ का आकार लेकर उभरूँगी।।

    Liked by 1 person

    1. वाह !!! बहुत सुन्दर पंक्तियाँ लिखी हैं आपने। आप जैसे युवा सोंच के वजह से समाज में नारियों की दशा में सुधार आ रहा है। बस यह गतिमान रहे। बहुत धन्यवाद कविता के बारे में अपने विचार बताने के लिये।

      Like

      1. महिलाओं में आत्मविश्वास की ज़रूरत हैं. जो धीरे धीरे ही आयेगा. किसी ने मुझसे कहा – मध्यम वर्गीय मानसिकता से रातोंरात नहीँ निकला जा सकता हैं. यह बात मुझे भी सही लगती हैं.

        Liked by 1 person

  3. मुझे एक बात पूछनी है यँहा अपने “सीता” लिखा है, शायद लिखने में गलती हुई है आप “सती” तो नही लिखना छह रही थी।
    मुझे माफ़ करियेगा अगर मुझे गलत लगा हो तो।

    Liked by 1 person

    1. आपका प्रश्न अच्छा लगा। मैं ने सीता लिखा है, क्यौंकि वे भी राम द्वारा लोगों की बातों के कारण परित्यगी गई थीं।

      Liked by 1 person

      1. हाँ, मुझे रामायण की 2 बातें बहुत गलत लगती है, एक ये राम जी द्वारा दूसरे की बात सुनकर त्यागा जाना और दूसरी एक पंक्ति है, मुझे सही से याद नही है, पर हिंदी में लिख देता हूँ-
        की जानवर ढोल और औरत मारकर ही समझते है बात को।

        Liked by 1 person

      2. ढोर , गवँर , पशु , शूद्र और नारी. सब ताडन के अधिकारी. रमायण की यह चौपाई controversial हैं. यह बिलकुल तर्क और न्याय संगत नहीँ हैं.

        Liked by 1 person

      3. पर हमारे यहाँ यह भी तो कहा जाता हैं – ‘यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमन्ते तत्र देवता’./ जहाँ नारी की पूजा होती हैं वहाँ देवता निवास करते हैं.

        Liked by 1 person

  4. 1.) Qaabe pe gilaf is liye hai taki log yah jaan jaye ye koi aam ghar nahi hai ye khuda ka ghar hai adab or tehjib se paish aaye.

    2.) Quraan pe gilaf is liye hai taki log yah jaan jaye ye wah kitaab hai jisko khuda ne apni hifajat me rakha hai ta-Qayamat yah mehfuj rahegi agar tum puri duniya me maujud quraan ko jala do ya use dafn kar do ya use dubo do tab bhi wo mitegi nhi qki uska har harf hafije Quraan ke sine me hai.

    3.) Aurat par parda is liye hai taki logo ko yah ilm ho jaye ki ye aam aurat nahi hai – khuda kehta hai aye logo ye aam nahi hai ye sahjaadian hai apni nazre ba-adab or ba-haya se jhuka lo warna tumhe iska hisaab dena hoga.

    4.) Ilm-Talim hasil karna har aurat or mard par farz hai or jo unhe ise hasil karne se rokega unhe iska hisaab dena hoga.

    4.) tum agar kuch bhi khane pine ki saman ghar laao to sabse pehle larkiyon ko do kyoki wah sahjadi hai or khuda ki rehmat bhi.

    5.) Aurat ka haq har chij par mard se pehle hai uski sampatti pe mard ka koi haq nahi par har aurat ka mard (bhai, sohar, pita, etc.) ki har sampatti pe adhikar hai or ye adhikar maine diye hai.

    ye Quraan me kahi gayi bate hai agar ise sahi tarah se bayan karne me koi galti hui ho to Allah mujhe maaf kare

    Liked by 1 person

    1. लोगो को यह इल्म हो जाए तुम आम नहीं हो – ये शहाजदियाँ है अपनी नज़र बा-अदब या बा-हया से झुका लो !!!
      बहुत खूब!!! बङी अच्छी बात आपने बताई। शुक्रिया।

      Liked by 1 person

      1. jaisa Quraan me hai waisa hi bayan kiya jab main chhota tha to abba hamesha jab bhi kuch late to meri chhoti or badi behno ko dete mujhe bahut gussa aata tha ki, to wo mujhe ye baat batate the ki kyo wah aisa karte hai jab main khud madarse jaane laga padhne laga to mujhe bhi iska ilm hua ab main kuch le ke jata hun to pehle ammi ko de deta hun fir wo sabko taksim kar deti hai

        Liked by 1 person

      2. बहुत बढिया . बड़ी खूबसुरत सीख है कुरान में. काश लोग लड़कियों और महिलाओं का ऐसे सम्मन करे.
        बहुत अच्छा लगा आपसे ये बातें जान कर.

        Liked by 1 person

    2. हर धर्म में सही बातें बताई गई हैं पर लोगो ने उसके अर्थ को अपने हिसाब से निकाल लिया अौर असल अर्थ कहीं छुप गया। बहुत धन्यवाद इसे share करने के लिये।

      Liked by 1 person

      1. bilkul sahi kaha apne ab jaise ki

        Quraan me kaha gya hai ki ilm-talim hasil karna har Aurat or mard par farz hai yani aap use tyag nahi sakte lekin isse kuch muslim bhaiyon or behno ne yah matlab nikala ki sirf dharmik ilm or talim hasil karna hai jabki quraan me saaf saaf kaha gya hai waqt ke sath sab kuch badlega ilm or taalimaat bhi to isi se ye sabhit hota hai ki unhone har yug ke liye kaha hai.

        tabhi to Quraan me Allah ne farmaya hai ki le aao isse behtar koi kitaab jisme sare raaz bayan kiye gaye ho jaise isme maine kiya hai tum iske kisi ek line ko bhi galat sabit kar ke dikhao.

        Note:- Quraan duniya ki eklauti kitaab hai jo puri duniya ke logo ko chunauti deti hai khud ko galat sabit karne ki bahut se vidwaan iske liye aage aaye par wo sab ke sab asafal rahe

        Liked by 1 person

      2. बहुत अच्छा लगा आपसे ये बाते जान कर. कभी मैने भी कुरान पढ़ना शुरू किया था. पर ज्यादा पढ़ नहीँ सकी क्योंकि किसी और की कुरान थी, वापस करना था.
        आपने ठीक कहा है. धर्मों या धर्मग्रंथों में सही ज्ञान ही है. पर कुछ लोगों ने उनके अपने अर्थ निकाल लिये.

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s