इंद्रधनुष -कविता Rainbow -poem


Indian Bloggers

 

There is nothing in this world that is not a gift from you  ~  Rumi.

 

ज़िंदगी के सात रंगों को भूल,

       हम जीवन को ढूँढ रहे हैं

          काले-सफ़ेद रंगों के धुआँ अौर  धुंध में।

                   भाग रहें हैं,  अनजानी राहों पर ,

                       दुनिया के मायावी  मृगतृष्णा के पीछे।

                            आंगन की खिली धूप, खिलते फूल,

                                  बच्चों की किलकारी, 

                                   ऊपरवाले की हर रचना है न्यारी।

                                       अगर कुछ ना कर सको ,

                                        तो थमा दो ऊपर वाले को अपनी ङोर।

                                           खुबसूरत सतरंगी  इंद्रधनुषी  लगेगी,

                                                 ज़िंदगी हर अोर। 

 

 

image from internet.

Advertisements

56 thoughts on “इंद्रधनुष -कविता Rainbow -poem

    1. Hi Nisthur, Its a difficult qus to ans , I am just like any other simple person. I belive , be greatful for whatever comes to our life ( good or bad ) They all are send from almighty to guide us. thanks for compliment.

      one thing impressed me about your writeups. That is spiritual bent. Specially , When most of the writers of your age group are writing about – romance , love , beauty…..

      Liked by 3 people

      1. Yeah I know it’s difficult question to answer but you have some thing deep understanding may be you are not able to express or generous for not claiming the credit.

        Anyway you answered very well , I agree with you.

        I try to write about love , romance and beauty but it doesn’t come to me naturally. I have struggle a lot . Once in while I struggle and write.

        Spirituality is normal flow of my life it comes to me effortlessly.

        I am glad I could connect to you thanks for your incredibly valuable time.

        Liked by 3 people

  1. वाह! बहुत ही खूबसूरती से लिखा है 🙂
    और आपका धन्यवाद मेरी लगभग सारी पोस्ट्स को like करने के लिए. मुझे भी आपका ब्लॉग बहुत पसंद आया, बहुत दिनों बाद किसी ऐसे इंसान को देखा है जो हिंदी भाषा को इतनी इज़्ज़त दे रही हैं, वरना आज के दौर में लोग हिंदी भाषा बोलने से भी कतराते है. इसीलिए, शुक्रिया आपका, आपकी सारी पोस्ट्स हिंदी में लिखने के लिए! 🙂

    Liked by 1 person

    1. करुणा आप बहुत अच्छा लिखती हैं. 😊
      मुझे महसूस होता हैं , हिन्दी एक वैज्ञानिक भाषा हैं और यह मेरी मातृ भाषा भी हैं.
      हम लेखकों को भाषा के दायरे से ऊपर उठना चाहिये और हर भाषा का सम्मान करना चहिये. जैसा अभी आपने किया. बहुत धन्यवाद 😊

      Liked by 1 person

      1. ओह शुक्रिया, मुझे ख़ुशी हुई के आपको मेरी लिखाई पसंद आयी 🙂
        सही कहा आपने, हम सबको हमारी मातृभाषा का सम्मान और उपयोग अपनी बोल-चाल में करते रहना चाहिए। मैं उम्मीद करती हूँ के आपके ब्लॉग और आप जैसे और लोगों के हिंदी ब्लॉग को पढ़के लोग हिंदी भाषा में अपनी रूचि को बढ़ाएं। मैं भी कोशिश करुँगी अपनी कुछ पोस्ट्स हिंदी में लिखूँ। 🙂

        Keep blogging and be happy always, really you’re doing amazing job! God bless, Good luck to you 🙂

        Liked by 1 person

      2. आपके तारीफों के लिये शुक्रिया. आप ऐसे ही अपने विचार लिखते रहिये. अच्छा लगा आपका कॉमेंट पढ़ कर.
        Keep smiling and stay healthy. Allthe best.

        Liked by 1 person

  2. प्यारी कविता है आपकी ,इंद्रधनुष को देखने के बाद काले और सफेद रंग का महत्व नही रह जाता भगवान ने अद्भुत चीज बनायी है। मैने अपनी तरफ से कुछ लिखा है इसी मे जोड़ रही हूँ …..

    ये जीवन सात रंगो का ही तो है खेल
    फिर भी काले और सफेद रंग से क्यूँ है लोगो का मेल
    ऊपर वाले ने तो वैसे ही थामी हुयी है सबकी डोर
    बस नजर नजर का ही तो है फेर

    Liked by 1 person

    1. वाह क्या खूब लिखा है आपने. बेहद खूबसुरत और मनभावन !!!
      हाँ डोर नियंता के हाथों में है यह समझ देर से आती है. बहुत बहुत शुक्रिया.

      Like

      1. सुंदर और मनभावन कविता है रेखा जी आपकी । अभिनंदन । धूप में निकलो, घटाओं में नहा कर देखो; ज़िन्दगी क्या है किताबों को हटा कर देखो ।

        Liked by 1 person

      2. हमेशा की तरह इस बार भी जितेंद्र जी आपकी तारीफ का अंदाज निराला है। इतने खूबसूरत शब्द और इतनी खूबसूरत अभिव्यक्ति के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया।

        Liked by 1 person

  3. Read your poem and liked very much! Painted your poem in seven color is a another creativity.
    You expressed seven colors of life one of them on black cloud and white cloud role in life. Anyhow this the life process we have face the different colors of life and go ahead to get success.

    Liked by 1 person

      1. You could try going to Appearance, then Widgets on your blog dashboard. There ought to be a translation widget you can add (it may say something like “Google translation”. Click and drag it to the sidebar or footer for your site. Hope that helps. Best wishes.

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s