प्लास्टिक धन -कविता #Demonetization

Indian Bloggers

8 बजे तक के धन, 8:15 में बेकार कागज बन गये।

पर काले धन खत्म होने की बातों ने,

देशभक्ति की भावना भर दी।

      कुछ बचाये -छुपाये छुट्टे पैसे ले

बाजार गई।

बङी सस्ती सब्जियाँ अौर रोते किसान मिले।

मातम करती कामवालियों अौर

गोलगप्पे की जिद करती बिटिया से

नजरें बचाती, खाली एटीम अौर पर्स  देख

प्लास्टिक धन ले माॅल पहुचीँ।

उन्हीं सब्जियों को 5-10 गुणा मंहगा पाया।

क्यों नहीं देखते –

हमारा पैसा कहाँ है जाता?

कुछ समझ नहीं आता,

जो हो रहा है कितना सही या गलत है,

कोर्ट अौर नेताअों की सौ बातें सुन,

कुछ समझ नहीं आता।

 

 

शब्दार्थ –

प्लास्टिक धन- Plastic Money

 

Indispire -144

Advertisements

24 thoughts on “प्लास्टिक धन -कविता #Demonetization

  1. असल में अधिकांश लोगों की मनःस्थिति ऐसी ही है — कुछ समझ नहीं आ रहा । एक दिशाभ्रम-सा है । मैं तो जिस दुकानदार से भी मिला उसी की आँखों में नमी, चेहरे पर घबराहट और आवाज में कंपन पाया ।

    Liked by 4 people

    1. मै आपकी बातों से सहमत हूँ. Credit /debit card तो सभी के पास नहीँ है. प्लास्टिक money अभी हमारे देश में सभी के लिये नहीँ है. अब तो इंतजार ही एक मात्र उपाय है. देखे क्या होता है.

      Liked by 3 people

  2. “जो हो रहा है कितना सही या गलत है,कुछ समझ नहीं आता।”.This is precisely the problem.If at least we are sure that the sacrifices are worth it.. now it looks hazy at best.Thanks for sharing.

    Liked by 2 people

    1. I have expressed my feeling honestly . Really , I am confused. Today I went to bank to withdraw money. They gave me 100 and 2000 Rs note. In the market no shop was ready to take 2000 Rs note or provide me its change.
      Let up hope for the best. Thanks a lot for reading . 😊😊

      Like

  3. बिल्कुल सही कहा आपने! ज्यादातर जनता असंमजस में ही है। सिर्फ देशभक्ती की भावना से …और भ्रष्टाचार खत्म होगा यह सोचकर सब सहन कर रही है।

    Like

    1. हम सब असमंजस में हैं, पर हमारा काम plastic money से चल रहा है, पर हमारे देश मैं बहुत लोग ऐसे भी हैं, जिनके पास plastic money की सुविधा नहीं है। देखें भविष्य के गर्त में क्या छुपा है। We all are hopeing for the best.

      Like

  4. Mam,
    I live in Belgium and daily surfing news channels since demonetisation has been announced. I am really confused whose interest is being served here. At the end of the day common man is put to grind. Waiting for achche din yet.
    Beautifully written. And read your introduction. It’s my pleasure to be on same page with a learned person like you .

    Liked by 1 person

    1. Thanks a lot Kalpana. Its my pleasure to connect with you. Hindi is less read language these days. I am glad you read my post. Also, I appreciate your concern about India.
      I am really confused about demonetization, as rupee value is going down. People are standing in bank queue for hours. Lower class people are struggling , as they don’t have plastic money.
      There is one request , Pl call me Rekha. 😊😊

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s