Posted in हिंदी कविता, Uncategorized

शालिग्राम और नर्मदा ( कविता ) #SelfDiscovery – poetry


Indian Bloggers


 

stock-photo-shivling-statue-representing-a-form-of-lord-shiva-in-the-premises-of-naina-devi-temple-200701106

 

एक पत्थर ने पूछा शालिग्राम से।

तुम चिकने हो, सलोने हो इसलिए

पूजे जाते हो?

हमें तो ना कोई पूछता है।

ना ही पूजता है।

शालिग्राम ने कहा- मैं भी तुम जैसा ही था।

नोकदार रुखड़ा, पत्थर का टुकड़ा।

पर मैंने अपने को छोड़ दिया

नदी के प्रवाह में, नियंता के सहारे।

दूसरों को चोट देने के बदले चोटें खाईं।

नर्मदा ने मुझे घिस – माँज कर ऐसा बनाया।

क्या तुम अपने को ऐसे को छोड़ सकोगे?

तब तुम भी शिव बन जाओगे, शालिग्राम कहलाओगे।

( ऐसी मान्यता है कि नर्मदा नदी के पत्थरों से स्वाभाविक और उत्तम शिवलिंग बनते हैं। हमारा जीवन भी ऐसा हीं है। जीवन के आघात, परेशनियाँ, दुःख-सुख हमें तराशतें हैं, हमें चमक  प्रदान करते हैं । )

 

शब्दार्थ -word meaning

शालिग्राम- शिवलिंग

नियंता – ईश्वर, भगवान

प्रवाह – धार, बहाव

नर्मदा – नर्मदा नदी

 

 

images from internet.

Life is a journey of self discovery. Describe your journey till now or a part of your journey which brought to closer to a truth about life or closer to your soul and self-discovery. #SelfDiscovery

Source: शालिग्राम और नर्मदा ( कविता )

Advertisements

Author:

I am PhD. in Psychology, a PGDM in HR, hold a certificate in Child Guidance and Counsel ling and a writer, not necessarily in that order. My work experience includes teaching MBA students in Usha Martin and Amity Colleges in Patna and teaching Psychology in various college of Patna to B.A. and M.A. students and to law students in Swami Vivekanand law College in Lucknow. I've also taught primary school students in DPS, Dhanbad. I got married at the age of 19, in my first year of BA Psychology Hons. I finished my studies and developed my interest in women and children studies in India. My thesis is about the urban, educated Indian women. I have written Hindi articles for Hindustan, Dhanbad and the MA Psychology study course for Nalanda Open University in Patna. My interest in writing is something that happened subconsciously. But lately, after having written deep, psychological and spiritual articles and having produced books for Post Graduate Psychology students, I realized how much I love writing for children. I find it refreshing and heartening to write about their innocence, faith, fears and fearlessness. My two daughters have grown on a staple diet of magic and fairy tales and I must confess that I have enjoyed their childhood perhaps more than they did themselves. I wish to keep writing for these little people who are the bright future of our country, our civilization and our world.

70 thoughts on “शालिग्राम और नर्मदा ( कविता ) #SelfDiscovery – poetry

  1. रेखा जी, आपने जो कहा, बिलकुल ठीक कहा । सुर्खरू होता है इंसां ठोकरें खाने के बाद, रंग लाती है हिना पत्थर पे पिस जाने के बाद ।

    Liked by 1 person

    1. वाह !!मेरे कविता के साथ बिलकुल मेल खाती, खुबसूरत गाने की पंक्तियाँ आपने याद दिला दी। दोनों का भावार्थ एक समान हीं है। बहुत धन्यवाद।

      Liked by 1 person

  2. बहुत सुदंर रेखा जी……., सोने की तरह चमकने के लिए पहले सोने की तरह तपना पड़ता है 🙏🏼

    Liked by 2 people

    1. धन्यवाद श्री हरी ,बिलकुल ठीक कहा आपने . कभी मुझे जीवन की उठा पटक मुझे बड़ा परेशान करती थी. अब लगता है, इनसे ही तो जीवन और हम बनते है. ये तो जिंदगी के अनुभव है. 😊😊

      Liked by 2 people

      1. करन करावैं आपो आप, मानस के कछु नही हाथ …..

        प्रमात्मा ही सब करने कराने वाला है इंसान तो बस खूद पे अभिमान कर लेता है।

        जिदंगी की उठा पटक ही इंसान को मजबूत बनाती है।

        जो प्रभु को याद रखतें, उनका साथ प्रमात्मा कभी नही छोड़ते।
        आपने जीवन की कठनाईयो से सीखा और उनसे पार पाया ये भी प्रभु कृपा ही है।

        “जिदंगी मे जो ठोकर खायी ना होती, तो ठाकुर तुम्हारी याद आयी ना होती” 🙏🏼🙏🏼

        Liked by 1 person

      2. आपकी सुलझी , आध्यात्मिक बातें दिल तक उतरने वाली है. बहुत सटीक लिखा है आपने. बहुत धन्यवाद. 😊😊

        Liked by 1 person

      3. मुझे आपके ब्लोग की ये पंक्तियाँ (tag line)बङी अच्छी लगी – “जैसी होगी आपकी दृष्टि वैसी दिखे आपको सृिष्टि ” । बहुत आभार।

        Like

  3. I simply could not leave your web site before suggesting that I actually enjoyed the standard info a person provide on your visitors?
    Is gonna be back frequently to investigate cross-check new posts

    Like

    1. जानकारी के लिये धन्यवाद। आपका comment किसी तरह spam में चला गया था। अभी मेरी नजर पङी। इसलिये उत्तर देने में विलंब हुआ। आशा है आप इसी तरह मेरा ब्लोग पढ़ते रहेंगें।

      Liked by 1 person

  4. बहुत दिनों बाद आज कुछ पढ़कर मन की प्यास जगी है, आज कविता को अपने वास्तविक स्वरूप में देख रहा हूँ।
    वाह

    Liked by 1 person

  5. Self discovery. The title suits me too here in this context. You know, I’m reading a Hindi poem after almost 12 years. It took me to my school days, where I was reading and writing Hindi poems.
    I liked the poem very much, especially this rhyming “नोकदार रुखड़ा, पत्थर का टुकड़ा।”….

    कुछ वर्षों पहले हिंदी में कविताये लिखता था। अभी हिंदी लिखना भी भूल गया। यह 3 वाक्यों को लिखते वक्त मैंने सोचा की मैंने सचमुच में हिंदी को भूल चूका हूँ।

    Thank you Rekha for rediscovering my Hindi again. The poem does it job very well.
    😀

    Liked by 1 person

    1. Welcome Anoop.😊😊 आपका कॉमेंट बहुत पढ़ कर अच्छा लगा. हम भाषा भूलते नहीँ है. बस लिखने – पढ़ने की आदत छूट जाती है. किसी बहाने भूली बिसरी हिन्दी से आप फ़िर से जुट गये. 😊😊

      Liked by 1 person

  6. whoah this blog is magnificent i like reading your
    articles. Stay up the great work! You recognize, lots of individuals are searching around for this
    info, you could aid them greatly.

    Like

  7. magnificent post, very informative. I ponder why the opposite experts of this sector don’t understand this.

    You should continue your writing. I’m confident, you have a great readers’ base already!

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s