Posted in psychology and life, theory of Psychology, Uncategorized

मेरा ब्लॉग -नरेटिवे ट्रांसपोटेशन या परिवहन कल्पना My Blog-Narretive Transportation


Indian Bloggers

About the name of my blog – 

     Narrative transportation theory proposes that when people lose themselves in a story  or write-up,  their attitudes and intentions change to reflect that story.

          According to Psychology this theory can be used to explain the persuasive effect of what    people read. Stories, poetry and write-ups may have a huge influence on  the readers mind .

 मेरे ब्लॉग के नाम के विषय में –

मेरे ब्लॉग का नाम नरेटिवे ट्रांसपोटेशनया परिवहन कल्पना है। यह  नाम कुछ अलग सा है। इसलिए मैं इस बारे में कुछ बातें करना चाहूंगी। कभी-कभी हम किसी रचना को पढ़ कर उसमें डूब जाते हैं। उसमें खो जाते हैं। उस में कुछ अपना सा लगने लगता है।  ऐसी कहानी या गाथा जो आप को अपने साथ बहा ले जाये। हमारा मन  उसमें ङूब जाये  । इस प्रभाव को   कथा परिवहन अनुभव  या  नरेटिवे ट्रांसपोटेशन कहते हैं।  यह एक मनोवैज्ञानिक सिद्धांत है। 

मैं चाहती हूँ कि मेरी रचनाओं को पढ़ने वाले पाठक भी ऐसा महसूस करें। इसमें हीं मेरे लेखनी की सार्थकता है। शब्दों का ऐसा मायाजाल बुनना बहुत कठिन काम है। फिर भी मैं प्रयास करती रहती हूँ। अगर मेरा यह प्रयास थोड़ा भी पसंद आए। तब बताएं जरूर। यह मेरा हौसला बढ़ाएगा।

Advertisements

Author:

I am PhD. in Psychology, a PGDM in HR, hold a certificate in Child Guidance and Counsel ling and a writer, not necessarily in that order. My work experience includes teaching MBA students in Usha Martin and Amity Colleges in Patna and teaching Psychology in various college of Patna to B.A. and M.A. students and to law students in Swami Vivekanand law College in Lucknow. I've also taught primary school students in DPS, Dhanbad. I got married at the age of 19, in my first year of BA Psychology Hons. I finished my studies and developed my interest in women and children studies in India. My thesis is about the urban, educated Indian women. I have written Hindi articles for Hindustan, Dhanbad and the MA Psychology study course for Nalanda Open University in Patna. My interest in writing is something that happened subconsciously. But lately, after having written deep, psychological and spiritual articles and having produced books for Post Graduate Psychology students, I realized how much I love writing for children. I find it refreshing and heartening to write about their innocence, faith, fears and fearlessness. My two daughters have grown on a staple diet of magic and fairy tales and I must confess that I have enjoyed their childhood perhaps more than they did themselves. I wish to keep writing for these little people who are the bright future of our country, our civilization and our world.

40 thoughts on “मेरा ब्लॉग -नरेटिवे ट्रांसपोटेशन या परिवहन कल्पना My Blog-Narretive Transportation

  1. जब लेखक सिर्फ लेखक न रह कर खुद लेखन हो जाता है तब ही पाठक उसे अपने आप से जोड़ पाता है। लिखते रहिए, शुभकामनाएं।

    Liked by 1 person

  2. हार्दिक शुभकामनाएं रेखा जी लेकिन हिन्दी के पृष्ठ का अंग्रेज़ी शीर्षक क्यों ? ‘कथा परिवहन’ या ‘कथ्य परिवहन’ या ऐसा ही कोई हिन्दी शीर्षक ही उचित एवं शोभनीय प्रतीत होता है । इसे मेरा निजी विचार ही समझें । निर्णय तो आप ही करेंगी और निस्संदेह सर्वोपयुक्त ही करेंगी ।

    जितेन्द्र माथुर

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद जितेंद्र जी आपके अनमोल विचार के लिये. आपका सुझाव बिलकुल सही है. पहले मैंने हिन्दी और अंग्रेजी दोनो शीर्षक लिखे थे. पर शीर्षक काफी लम्बा लगने की वजह से हिन्दी नाम सिर्फ पोस्ट में लिख दिया है.
      क्या मुझे हिन्दी नाम पुन जोड़ देना चहिये ?

      Liked by 1 person

      1. रेखा जी, जब आपकी भावाभिव्यक्ति हिन्दी में है तो अंग्रेज़ी रूप में शीर्षक की आवश्यकता ही नहीं है । हिन्दी रूप ही पर्याप्त है । आपकी हिन्दी भावाभिव्यक्तियों को पढ़ने और सराहने वालों के लिए तो ‘नरेटिव ट्रांसपोर्टेशन’ शीर्षक निरर्थक ही रहेगा । और एक लेखिका / कवयित्री के रूप में आप स्वयं को हिन्दी में ही अभिव्यक्त करना उचित समझती हैं तो आपको भी अंग्रेज़ी शीर्षक से कोई संतोष प्राप्त नहीं होगा ।

        Liked by 1 person

      2. धन्यवाद जितेन्द्र जी मुझे आपका विचार अच्छा लगा . मै हिन्दी नाम ज़रूर शामिल कर दूँगी. हाँ, हिन्दी से मुझे लगाव है. इसलिये बड़े प्रयास से हिन्दी Typing सीख कर ब्लॉग शुरू किया।
        आज के वैश्विक होती दुनिया में अँग्रेजी भी ज़रूरी है. अतः मैंने अपने आप को भाषा के दायरे में बाँधना ठीक नहीं समझा। बहुत से पाठकों से भी ऐसे अनुरोध आते रहते हैं। इसलिये मैं इनमें अँग्रेजी जोड़ना ज़रूरी समझती हूँ.
        मेरे मनोविज्ञान सम्बन्धित पोस्ट मेरे कार्य (job) से जुटे होते है. जो अँग्रेजी में होना अनिवार्य है.
        आशा है आप मेरे विचार से सहमत होंगे।

        Liked by 2 people

  3. Isme koi shak nahi ke ek lekhak / lekhika ya अन्य koi jo likhta hh wo atmsantushti ke lie bhi likhta hh….
    Ye to padne walo ki baat hh ke wo kya samjhte hain…
    Vishesh sabdo ko chunna bahut acchi baat hai…. Kyuki ye shabd gaghar mai sagar ka kaam kr dete hain.
    .
    But as a reader… Mai yahi chahunga ki ek lekhak mujhe apne lekh mai paidal safar karae… Mujhe kisi car ki jarurt nhi padegi, Jb mujhe paidal mai jyada maja aaega kyuki usme anubhav milega ek lekhak ka…

    Seedhe shabdo mai kaha jaae to…
    Jatil or vishesh shabd… Or guthee hui baate ek flow se bhtka deti hain or ek reader(sabhi nahi ) jaldbaaji mai car se nikl jata hai..
    Or agar shabd aam ho or lekh rochak ke saath udahran se bhara ho to wo vishesh shbd or guthee hui baate bhi aasani se smjha aajati hh
    Saath hi ek reader us writer ki tarah poore raste us lekh ko jee leta h…
    .
    .

    .
    Agar nadani mai kuch galat keh dia ho to apne se chota samjh kr maaf kr dijiega… 🙏

    Like

  4. So True!
    I sometimes find it hard to digest that some movies/books/end!
    I never want them to end!!
    And some characters have long lasting influence on you!!
    So True!!
    Did you come up with the term Narrative Transport yourself?
    I mean a thesis on the above or does it already exist…
    Could’ve mentioned the source though….what inspired you to name it !

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s