Posted in anuvhav, Uncategorized

नाम में क्या रखा है ? What is in a name?

जब, मेरी बेटी छोटी थी। तब मैं उसके साथ अक्सर एक खेल खेला करती थी ।

उसे अलग अलग नाम से बुलाती थी और फिर उससे उसका नाम पूछती थी।

उसे इस खेल में बङा मजा आता था। उसके चेहरे पर बिखरी उसकी खुशी और

खिलखिला कर नए -नए नाम बताने का खेल मुझे बड़ा अच्छा लगता था 

 यह खेल बहुत बार उल्टा भी चलता  था।  यह  मैं अक्सर तब करती थी,

जब मेरे पास बहुत काम होता था। जब मैं बहुत व्यस्त होती थी और वह

मुझे कुछ ना कुछ बोल कर परेशान करती रहती थी। मतलब यह कि  मैं

तब  उसे व्यस्त रखने के लिए  ऐसा करती थी।

 शायद, दुनिया में हर व्यक्ति के लिए  अपना नाम ही सबसे प्यारा शब्द  होता है।

पर  लड़कियों के  नाम शादी के बाद  बदल जाते हैं। लड़कियां अपने नाम या सरनेम के

साथ हीं  जिंदगी क्यों नहीं चला सकती हैं?

Advertisements

Author:

I am PhD. in Psychology, a PGDM in HR, hold a certificate in Child Guidance and Counsel ling and a writer, not necessarily in that order. My work experience includes teaching MBA students in Usha Martin and Amity Colleges in Patna and teaching Psychology in various college of Patna to B.A. and M.A. students and to law students in Swami Vivekanand law College in Lucknow. I've also taught primary school students in DPS, Dhanbad. I got married at the age of 19, in my first year of BA Psychology Hons. I finished my studies and developed my interest in women and children studies in India. My thesis is about the urban, educated Indian women. I have written Hindi articles for Hindustan, Dhanbad and the MA Psychology study course for Nalanda Open University in Patna. My interest in writing is something that happened subconsciously. But lately, after having written deep, psychological and spiritual articles and having produced books for Post Graduate Psychology students, I realized how much I love writing for children. I find it refreshing and heartening to write about their innocence, faith, fears and fearlessness. My two daughters have grown on a staple diet of magic and fairy tales and I must confess that I have enjoyed their childhood perhaps more than they did themselves. I wish to keep writing for these little people who are the bright future of our country, our civilization and our world.

43 thoughts on “नाम में क्या रखा है ? What is in a name?

    1. यह बात आप जैसे कुछ ही लोग सही मानते है. अब ज़रा सोचिये अगर कभी आपको अपना नाम या सरनेम बदलना पड़े तब ?

      Liked by 1 person

      1. सुना था समाचारों में , कि हरियाणा में कहीं पर घर के बहार नेम प्लेट पर बेटियों का नाम रखा गया है

        अगर यही ससुराल में हो तो ( पुरुष प्रधान समाज की मानसिकता वाले ) तो आत्मदाह कर लेंगे ?😊

        Liked by 1 person

  1. ऐसा हो सकता है और ऐसा होता भी है.. लड़कियों को अपना नाम या कुलनाम बदलना अनिवार्य नहीं.. जरुरत है तो एक समझदार जीवन साथी की।

    Liked by 1 person

    1. हाँ , यह बात तो ठीक है. पर मै इस प्रचलन की बात कर रहीं हूँ. अपनी पुरानी कुछ friends को fb पर पहचाने में समय लगा क्योंकि सरनेम बदला हुआ था.

      Liked by 1 person

      1. जी.. हम लोगों को भेड़ चाल चलने की आदत है.. इसलिए भी कुछ लोग बदलाव का हिस्सा नहीं बनते.. पर्सनली मुझे तो ये सरनेम का कांसेप्ट ही बुरा लगता है .. बाकी जो जैसे खुश रहे.. मगर खुश रहें 😊

        Liked by 1 person

      2. यह कॉन्सेप्ट भी पुराना है और सरनेम बदलने की प्रथा भी. आपकी बातें अच्छी लगी. 😊😊

        Liked by 1 person

      1. Olive Ridley turtle ka yah mera bahut puraanaa post hai. Tab kahi maine iske baare mai padhaa tha.
        Mujhe bacho ke liye likhnaa pasand hai par irrelevant nahi. Isliye kisi awareness ki baat se associate karke likhti hun.

        Liked by 1 person

  2. Sochne wala vishay hai… Or gambheerta se iska saar nikalna ho to shuruaat se suruaat krni hogi… Kyuki jisne bhi is concept ko banaya hai kuch na kuch soch kr hi to bnaya hoga shaayad us samay iski jarurt ho…..
    Pehle parda pratha jaisi bahutsi paramparae rahi jinhe peedi dar peedi badaya gaya.. Jabki uski koi jarurt hi nhi thee lekin aaj ke samay mai naari shakti ka bolbala hai…. Sarkar ho ya samaj samay mai peeche dekhne par lgta h ki aaj ke yug mai kaafi badlaaw hai… Reeti riwaj samay ke saath badal rahe hain… Soch bhi samay ke saath badalti jaa rhi hai… Shayad islie kyuki ye jaruri bhi hai or iske vikalp mai kuch rkha jaa skta hai.
    Lekin baat kare surname badalne ki to agar hum isko bhi badalna chaahe to jarurat hogi iske dusre vikalp ki… Ki iski jagah kon lega… Ya surame hatane par kya logo ko seedhe tor par pehchan krne mai kathinai na ho…
    Ya mahilaae apna surname naa badle to kya hone wali santaan konsa surname rakhegi pita ka ya maata ka… Aise bahut se sawal hai jinke jawab mai hi badlaw aaega jis din aise bahut se sawalo ke jawab mil gae to badlaaw bhi aaega or samaj mai isthirta bhi kaayam rahegi

    Liked by 2 people

  3. बचपन ही एक ऐसा वक्त होता है जिसके हर पल हम सभी को याद होते है ..
    बहुत ही सुंदर यादो के साथ सुंदर पोस्ट
    अच्छा लगा रेखा जी

    Like

    1. बचपन के सुनहरे दिन सभी को याद करना अच्छा लगता हैं। लेकिन इसमें एक विरोधाभासी बात भी है। जब हम बच्चे होते हैं तब बड़े होने की इच्छा होती है और जब बड़े होते हैं तो बचपन के दिन याद आते हैं। इसे पसंद करने के लिए बहुत शुक्रिया।

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s