प्रतिबिंब अौर अक्स -कविता Reflection-poetry

The beauty you see in others, Is a reflection of you!!!

मन में उमड़ते-घुमड़ते कविता को,

जब पन्नों पर उतारना चाहा ।

शब्दों के माया जाल  ने उलझा लिया।

ढूंढते-ढूंढते जब शब्द हाथ लगे।

तब तक कविता न जाने कहां खो गई थी।

कुछ पंक्तियां जो याद रह गईं हैं  वे यहां है –

आप दूसरों में जो सुंदरता देखते हैं,

वह आप का हीं प्रतिबिंब अौर अक्स है !!!!!!

Image from internet.