ईश्वर की खोज में 2 -कविता In search of GOD-Poem

religion 1

मैं

इंसानियत में बसता हूं

और लोग मुझे मजहबों में ढूंढते हैं।

Image courtesy internet.

 

 

 

Advertisements

16 thoughts on “ईश्वर की खोज में 2 -कविता In search of GOD-Poem

  1. ढूंढने दीजिये जहां ढूंढेंगे वहीँ मिल जाएंगे भगवान्———वैसे भी वे कहाँ नहीं है हम में तुम में खड्ग खम्भ में सब में हैं भगवान् ——-

    Liked by 1 person

  2. इंसानियत में बसता हूं

    और लोग मुझे मजहबों में ढूंढते हैं।

    बेहद उम्दा मुबारक हो

    Liked by 1 person

  3. सच, ईश्वर सर्वस्व है, इंसानियत में, इंसानों में, नाम में, भाव में, रौशनी और अँधेरे में हर जगह, वह मौजूद है

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s