खून की कीमत -कविता 6 lakh litres of blood wasted

 

The Times of India,    The Economics Time     zee news  Apr 24, 2017, India

No coordination between blood banks and hospitals, 6 lakh litres of blood wasted in five years.

New Delhi: Indicating that there is serious gaps in the country’s blood banking system, over 28 lakh units of blood and its components were wasted in five years by banks across India, as per a report.

India, with its population of 1.2 billion people, requires 12 million units of blood annually, however, only nine million units are collected every year. The country faces a blood shortage of three million units. It is said that NCR alone faces a shortage of 1,00,000 units per year.

खून की कमी से,

लोग मर जाते हैं,

कितने इसे खरीद नहीं पाते,

 और हम बड़ी-बड़ी बातें करते हैं,

पर बड़ी-बड़ी बातों का मूल क्या है ?

हमें संभालना  तक नहीं आता है

किसी ने कहा,  इन खबरों को

दिल पर ना ले।

                                                                    यह नासमझी की हमारी,

 

परंपरा  पुरानी है।

जीवन अौर मौत  के बीच झुलते लोगों से पूछो,

इसका मोल क्या है?

 

Image courtesy  Internet.

Advertisements

49 thoughts on “खून की कीमत -कविता 6 lakh litres of blood wasted

  1. In our institute they maintain a database of volunteer blood donors, with their contact numbers/addresses. They are contacted in cases of emergency/requirements. If a particular case could not be served by the volunteers, they send an all-user notification.

    Liked by 1 person

  2. आपने जो कहा है, ठीक कहा है रेखा जी । अलगरज़ी तो हम हिंदुस्तानियों की आदत में शुमार है । पानी हो या ख़ून, उसका मोल तो वो ज़रूरतमन्द ही जानता है जिसे वह वक़्त पर नसीब नहीं होता । जो तन लागे, सो तन जाने ।

    Liked by 1 person

    1. बिलकुल ! पर ऐसी ख़बरे पढ़ कर तक़लीफ़ होतीं है. अक्सर लोगों को खून का इंतजाम करने के लिये परेशान होते और लोगों को रक्त दान करते देखा है.

      Liked by 1 person

    1. हम लोगों में जिम्मेदारी की भावना कम होती जा रहीं है , जो चिंता की बात है. मुझे जो news परेशान करती है , उसे अक्सर आपलोगों से share करती हूँ.
      धन्यवाद.

      Liked by 1 person

      1. मुझे जो बाते पसंद नहीँ आती या जो बाते मुझे परेशान करती है. उन पर मैं ज़रूर लिखती हूँ.

        Liked by 1 person

      2. सीधी बात बोलने की पुरानी आदत है मेरी. अब सीधी बाते लिख भी देती हूँ. आपको यह पसंद आई , यह मेरे लिये अच्छी बात है. शुक्रिया. 😊

        Liked by 1 person

      3. Sab ki apni apni writing style hoti hai. aapkaa tarika bhi achchaa hai.
        Likhne ka majaa darasal tab hai jab vah padhne vaale ke dil me utar 😊😊 jaaye.

        Like

  3. और हम बड़ी-बड़ी बातें करते हैं,

    पर बड़ी-बड़ी बातों का मूल क्या है ?

    दिल छू गयी पंक्तियाँ.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s