धोखा -कविता Trust

It takes years to build up trust, only seconds to destroy it. But betrayal has its positive side too.

“Out of suffering have emerged the strongest souls; the most massive characters are seared with scars.”
― Kahlil Gibran

 

 किसी ने धोखा क्या दिया ,

आंखे खुल गई।

                                गैरों अौर अपनों की पहचान मिल गई।

आँखों में धूल  झोंकी ,

     दुनिया और बेहतर नजर आने लगी………..

 

Image from internet.

Advertisements

31 thoughts on “धोखा -कविता Trust

    1. धोखे कड़वे होते है , पर सीख भी दे जाते है.
      पर एक गलत बात भी होती है – लोगों पर से विश्वास उठ जाता है.

      Liked by 1 person

      1. हाँ मैं आपकी बात से पूर्णतयः सहमत हूँ
        कुछ लोगों को धोखे बहुत बार मिलते है उसके बाद उनको जल्दी ही इंसान की परख हो जाती है

        Liked by 1 person

      2. मैं लोगों पर विश्वास करने के सिद्धांत को सही मानती हूँ. इसलिये धोखे बहुत मिलते है.

        Liked by 1 person

      3. मैं भी सभी पर विश्वास कर लेता हूँ
        मगर अब हर किसी से मित्र मिलाप नहीं करता जब
        काफी हद तक जांच परख हो गयी है अब

        Liked by 1 person

  1. So damn true. Life and people teach us lessons – the hard way.

    But hope springs eternal, no? 🙂

    Cheers,
    CRD

    Do drop by mine.
    www()scriptedinsanity()blogspot()in

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s