गीता , कुरआन , बाइबल – कविता 

एक दिन ऊपर वाले ने कहा –

हर दिन कुछ ना कुछ

नये की कामना हैं तुम्हें.

कभी नया भगवान भी तो

आजमा कर देखो.

बहुत कुछ नया मिल जायेगा.

गीता और रामायण के बाद

आजकल कुरआन और बाइबल

पढ़ने लगी हूँ……

Source: गीता , कुरआन , बाइबल -कविता 

Advertisements

25 thoughts on “गीता , कुरआन , बाइबल – कविता 

  1. अच्छा है कुछ तो कर रहे हैं—अधिकतम धर्म,भाषा,और संबिधान का ज्ञान ही एक शिक्षित की पहचान है। बहुत खूब।

    Liked by 2 people

    1. दरअसल हम धर्म के नाम पर अपने को अलग-अलग समझते हैं, पर सही अर्थों में सारे धर्मों का सार एक हीं है।

      Liked by 1 person

  2. Beautiful post! ☺️
    I love the fact that whenever I have tried to learn something about any other religion except Hinduism (mine), I have found a manner of parallelism in all in one way or the other. 😇😇☺️

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s