Kintsugi- golden repair”

टूट कर बिखरने से ज्यादा अच्छा है , जिंदगी को सुनहरे रुपहले तारों  से जोड़ लेना!!!!

In Japan broken objects are often repaired with gold. 

CONSIDER THIS WHEN YOU FEEL BROKEN

Kintsugi -golden repair”

In Japan, instead of tossing these pieces in the trash, some craftsmen practice the 500-year-old art of kintsugi, or “golden joinery,” which is a method of restoring a broken piece with a lacquer that is mixed with gold, silver, or platinum. … The gold-filled cracks of a once-broken item are a testament to its history.

 

जापान में, टूटे  टुकड़ों को  फेंकने के बजाय, कारीगर इसे सोने का पानी लगा कर जोङ देते हैं।  यह  500 वर्ष पुरानी कला  कीट्सुगी  या “गोल्डन जोङ” कहलाती है।  टूटे  टुकड़े को  सोने, चांदी , या प्लैटिनम  से जोङा जाता है  अौर यह  सोने से भरी हुई दरारों वाली वस्तु  ऐतिहास धरोहर बन जाती हैं।

 

 

Image from Internet.

guide – Quote 

                  The dark thought, the shame, the malice.

             meet them at the door laughing and invite them in.

                                Be grateful for whatever comes.

                                    because each has been sent

                                        as a guide from beyond

                                                         Rumi

💛

Sea of love

“I am your lover, come to my side, I will open the gate to your love.

Come settle with me, let us be neighbors to the stars.

You have been hiding so long, endlessly drifting in the sea of my love.

Even so, you have always been connected to me.

Concealed, revealed, in the unknown, in the un-manifest.

I am life itself.

You have been a prisoner of a little pond,

I am the ocean and its turbulent flood. Come merge with me,

leave this world of ignorance. Be with me, I will open the gate to your love.”

 

 

Rumi

 

 

Image from internet.

मृत अतीत –  कविता 


मृत, कटु अतीत  , यादों का बोझ

स्मृतियों की निष्ठुरता

अक्सर बङी भारी होती है।

इनके वज़न तले दबे रहने से

अच्छा है, इस घुटन से निकल

इन्द्रधनुष के सात रंगों में  जीवन जीना।

 

वर्षा – कविता 

मुम्बई  की रिमझिम वर्षा की फुहारें

 गंदलाये समुन्द्र की उठती पटकाती   लहरे,

आसमान से  नीचे झुक आये धुंध  बने बादल , 

सीकते भुट्टो की सोंधी  खुशबू 

 देख  फुहारों में भीगने का दिल हो आया. …..

बाद में  कहीँ  नज़र आया 

 टपकती  झोपड़ियों में भीगते ठिठुरते बच्चे ,

यह मेह किसी के लिये मजा और किसी की सजा है.

 बाहर का बरसात,  अंदर आँखो के रस्ते बरसने  लगा.

 

Image from internet.