तकलीफ –  कविता 

किसी की तकलीफ कम ना कर सको कोई बात नहीँ.

पर दर्द और तकलीफ बढ़ाओ भी नहीँ ,

 तब भी बड़ी दुआ मिल  जायेगी.

एक प्यारी सी मुस्कान ही जिंदगी जीने का 

हौसला दे जायेगी.