कॉमगेट मारू ( सच्चाई पर आधारित मार्मिक कविता)

News 31.7.2017 –Daily News & Analysis Mint office begins sale of commemorative coins on Gandhi, 

Sale of commemorative coins on Gandhi, Komagata Maru incident begins

 

The Komagata Maru incident dates back to May 23, 1914 when the ship carrying 376 passengers, majority of whom were Sikhs, Muslims and Hindus  were denied entry into Canada after an immigration dispute. Some of the passengers were killed in protests on their return to India.

The Government Mint, Mumbai, has started sale of commemorative  coins of Mahatma Gandhi   and the Komagata Maru incident.

(यह भारतीयों की एक मार्मिक कहानी है। “कोमगाटा मारू” जापानी जहाज़ में 376 भारतीय यात्री सवार थे। यह जहाज़ 4 अप्रैल 1914 को निकला। ये भारतीय कनाडा सरकार की इजाज़त से वहाँ पहुंचे। पर उन्हे बैरंग लौटा दिया गया। जब यह वापस भारत पहुँचा तब यहाँ अँग्रजों ने गोलियोँ से उनका स्वागत किया।

सरकारी  टकसाल, मुंबई ने महात्मा गांधी की दक्षिण अफ्रीका और कॉमगेट मारू घटना के शताब्दी को याद करने के लिए स्मारक सिक्के की बिक्री शुरू कर दी है। )

 

सुदूर देशों में ज्ञान बाँटने और व्यवसाय करने,

हम जाते रहें है युगों से।

आज हम फिर, अच्छे जीवन की कामना, गुलामी और

संभावित विश्वयुद्ध के भय से भयभीत।

निकल पड़े अनंत- असीम सागर में,

कॉमगेट मारू जहाज़ पर सवार हो।

चालीस दिनों की कठिन यात्रा से थके हारे,

हम पहुँचे सागर पार अपने मित्र देश।

पर, पनाह नहीं मिला।

वापस लौट पड़े भारतभूमि,

पाँच महीने के आवागमन के बाद

कुछ मित्रो को बीमारी और अथक यात्रा में गवां।

टूटे दिल और कमजोर काया के साथ लौट,

जब सागर से दिखी अपनी मातृभूमि।

दिल में राहत और आँखों में आँसू भर आए।

अश्रु – धूमिल नेत्रों से निहारते रहे पास आती जन्मभूमि – मातृभूमि।

तभी ………………….

गोलियों से स्वागत हुआ हमारा। कुछ बचे कुछ मारे गए।

अंग्रेजों ने देशद्रोही और प्रवासी का ठप्पा लगा ,

अपने हीं देश आने पर, भेज दिया कारागार।

स्वदेश वापसी का यह इनाम क्यों?

 

Source: कोमगाटा मारू ( सच्चाई पर आधारित मार्मिक कविता)

साथ

दूरियाँ कितनी भी हो, बातें हो ना हों ,

पर साथ ऐसा भी होता है कि

कुछ पूछना ना पङे……….

हाल पता हो…..

क्योंकि

साथ रहते रहते, साथ छूटते देखा है।

Thyroid Diet – Do’s

कौशल्यम्

Hello… friends…

So now for thyroid patients What to eat is mentioned in this post…

What to EAT :

Thyroid patients must contain following 3 things in their regular diet.

1. Salad – Salad mainly made from cucumber, onion, carrots & sprouts. (sprouts – boiled for 5 minutes )

2. Boiled Vegetables – In this mainly eat boiled potatoes, sweet potatoes, cluster beans, drumsticks like food. This will add up good nutrition for patients.

3. In main meal regularly eat brown rice with different types of dals.

  • Cooking oil – use coconut oil ( most preferred )

  • Other requirements in diet are..

Vitamin B – Get it through 1 or 2 glass of milk or 1 or 2 cup of curd which is high in protein, vitamin B & selenium.

Vitamin D – Add mushrooms in diet.

Dry fruits – Mainly walnuts – helps to decrease stress level.. and tension.

View original post 111 more words

Someshwar Wadi temple Pune सावन में सोमेश्वर महादेव 

Beautiful Heritage  Swayambhu  Someshwar temple of Pune was  built with black stone  in  1640 by Shivaji for his mother Jijabai.

पुणे के इस सुंदर विरासत  स्वयंभू ( स्वंय भुमि से निकला शिवलिंग)  सोमेश्वर मंदिर  को 1640 में शिवाजी ने काले पत्थरों से,  अपनी मां जिजाबाई के लिए बनाया था। वह वहाँ नियमित रुप से पूजा करने आती थीं।

 :

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्
उर्वारुकमिव बन्धनान्
मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥
Om Try-Ambakam Yajaamahe
Sugandhim Pusstti-Vardhanam
Urvaarukam-Iva Bandhanaan
Mrtyor-Mukssiiya Maa-[A]mrtaat ||

– from Rig Veda 7.59.12

Meaning:
1: Om, We Worship the Three-Eyed One (Lord Shiva),
2: Who is Fragrant (Spiritual Essence) and Who Nourishes all beings.
3: May He severe our Bondage of Samsara (Worldly Life), like a Cucumber (severed from the bondage of its Creeper), …
4: … and thus Liberate us from the Fear of Death, by making us realize that we are never separated from our Immortal Nature.

 

मंदिर का मुख्य द्वार main entrance of the temple

                                                                        गर्भ गृह द्वार

 

काले पाषाण का शिवलिंग और खूबसूरत श्वेत फर्श

 

रुद्र का अभिषेक –  

 

 

 

 

World Hepatitis Day -28 July – AWARNESS

* People who are at a higher risk of contracting or transmitting hepatitis B or C virus are:

1. People subject to unsafe medical practices

2 People who inject drugs

3 People who have unprotected sex

*The long term consequences of chronic hepatitis could be:

1. Cirrhosis of the liver

2. Liver failure

3. Liver cancer

*Today, the total number of people living with chronic hepatitis (B and C) is around  350,000,000.

* Less than 5% percentage of people living with hepatitis KNOW that they are infected

*More than 90% percent of people can be cured of hepatitis C, if treatment taken on time.