खुशबू – कविता 

​सब कुछ सँवारते-खुशबू बँटते रहने वालों को  बिखरते देखा है।

पर कांटों के बीच फूलों  का भी तो यही हश्र होते देखा है।

Advertisements

21 thoughts on “खुशबू – कविता 

      1. बस आप लोगो का आशीर्वाद बना रहे। इस तरह की लाइनों को पढ़ कर ही सुकून मिल जाता है।

        Liked by 1 person

      2. जी धन्यवाद , यह तो इस जीवन की सच्चाई है , जिसे मैने व्यक्त करने की कोशिश की है.

        Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s