मोती Pearl

 

Pearls are formed inside the shell of certain mollusks as a defence mechanism against a potentially threatening irritant such as sand particles or parasite inside the shell. The mollusk creates a pearl sac to seal off the irritation.

हम बचतें हैं दुःखों -तकलिफों से

अौर

समुद्र के सीप को देखो

गर रेत का कण चला जाये,

उसके अंदर

     वह उसे भी आबदार मोती बना ङालता है !

 

सीप के अंदर अगर रेत कण चला जाता हैं। तब इसके अंदर रहने वाला मॉलस्क कीङे  को अपनी त्वचा पर रेत से तकलीफ होने लगती है। इससे बचने के लिये, इस रेत के कण पर वह अपनी त्वचा से निकले चिकने तरल पदार्थ की परतें चढ़ाने लगता है अौर यही चमकदार   बन जाता है।

Advertisements

43 thoughts on “मोती Pearl

  1. Pingback: Pearl – SEO

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s