चाँद The moon

उस रात पूरा  चाँद थोड़ा 

मेरी ओर झुक आया ..

हँसा …..

बोला …..

अब फिर अमावस का अँधेरा मुझे घेरने लगेगा .

पर मैं हार नहीँ मानता कभी .

जल्दी ही पूरा हो कर 

फ़िर आऊँगा …

शब्बा  ख़ैर ! ! ! ! 

19 thoughts on “चाँद The moon

  1. bahut khub…..
    puri taqat lagaakar mujhe haraa do,
    main phir aaunga tab tum naa rahoge,
    sirf main hi rahunga,
    beshak tum phir hamen haraoge,
    magar,
    jyada mat etraanaa,
    kyunki
    main phir aaunga tab tum naa rahoge.

    Liked by 2 people

    1. धन्यवाद सविता ! मुझे लगता है प्रकृति के हर रुप में साकारात्मक संदेश छुपा रहता है।

      Liked by 1 person

  2. क्यों डरे जिंदिगी में क्या होगा हर वक़्त क्यों सोचे के बुरा होगा बढ़ते रहे मंजिल के और हम कुछ भी न मिले तो क्या तजुर्बा तो नया होगा

    Liked by 1 person

    1. वाह!!! आपकी कविता ने दिल जीत लिया। बहुत आभार !!!
      बस ऐसा ही कुछ चाँद भी संदेश देता है – पुर्णिमा से अमावस की अपनी यात्रा से। जीवन भी ऐसा हीं है – सुख-दुख के आने जाने का क्रम के रुप में।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s