आसमान के बादल

आसमान के बादलों से पूछा –

कैसे तुम मृदू- मीठे हो..

जन्म ले नमकीन सागर से?

रूई के फाहे सा उङता बादल,

मेरे गालों को सहलाता उङ चला गगन की अोर

अौर हँस कर बोला – बङा सरल है यह तो।

बस समुद्र के खारे नमक को मैंने लिया हीं नहीं अपने साथ।

18 thoughts on “आसमान के बादल

  1. बड़ी पुरानी फ़िल्म ‘पैसे की गुड़िया’ (1974) का किशोर कुमार जी द्वारा गया गया एक गीत याद दिला दिया आपने – ‘मेरी बात के माने दो; जो अच्छा लगे, उसे अपना लो; जो बुरा लगे, उसे जाने दो’ ।

    Liked by 1 person

  2. chanchal hai hawaon sang udta….
    kabhi asmaan ko apni agosh me dhakta,
    phir bhi kitna samajhdar khare samundra se ke jal se bana…
    khud men mithe jal bhara……….
    matlab …
    sikhna ho to badal se sikho
    namak se saath rah,
    chini si mithas bharo,
    bahut khub.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s