24 thoughts on “Your own heart

  1. बिलकुल ठीक बात है यह । संत कबीर तो सदियों पहले ही कह गए हैं – ‘कर का मनका डारि दे, मन का मनका फेर’ । और मुकेश जी का अमर गीत भी तो है – ‘दिल जो कहेगा, मानेंगे; दुनिया में हमारा दिल ही तो है; हर हाल में जिसने साथ दिया, वो एक बेचारा दिल ही तो है’ । जो मन के द्वार की कुंडी खड़का कर उसे खुलवा सके, उसे कहीं जाने की आवश्यकता नहीं । कस्तूरी तो मृग के भीतर ही होती है, बस उसे इसका भान नहीं होता, इसीलिए वह उसकी सुगंध के स्रोत को संसार में ढूंढता है । रफ़ी साहब का भी तो मशहूर नग़मा है – ‘ दिल की आवाज़ भी सुन, मेरे फ़साने पे न जा; मेरी नज़रों की तरफ़ देख, ज़माने पे न जा’ ।

    Liked by 1 person

    1. आप के पास गीतों का खजाना है जितेन्द्र जी, जो आप बिलकुल सही समय पर व्यक्त करते हैं। बहुत आभार आपका। 🙂

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s