Posted in Uncategorized

डोर 

धागा हो   जिंदगी हो  या   जीवन की उलझी डोर 

सुलझाना कभी कभी कठिन हो जाता है .

कभी उलझने  सुलझाने में और उलझ जाती है .

और कभी लगता है डोर हीं ना टूट जाये .

Advertisements