इश्क़

कच्ची उम्र के उफानों में बह जाए वो इश्क ही क्या?

झुर्रियों में भी खिलखिलाए वो इश्क कमाल होता है.

Anonymous