गुलाबों जैसी हंसी

उसकी

गुलाबों जैसी हंसी

मीठी मधुर

जो बिखेरती है

इत्र….जैसी खुशबू

हर अोर।

 आंखें सूरज सी

जीवन की सुगंध अौर

 सुबह की ताज़गी से भरी….

शुकून देती है।