शौहरत

जाने कौन सी शौहरत

पर आदमी को नाज़ है,

जो आखरी सफर के लिए भी

औरों का मोहताज़ है….

Unknown

Advertisements

हुनर

कोई हुनर ,

कोई राज ,

कोई राह ,

कोई तो तरीका बताओ….

दिल टूटे भी न,

साथ छूटे भी न , कोई रूठे भी न ,

और ज़िन्दगी गुजर जाए।

Unknown

खूबसूरत लम्हें ,

गुज़र जाते हैं खूबसूरत लम्हें ,

यूँ ही मुसाफिरों की तरह .

यादें वहीं खडी रह जाती हैं ,

रूके रास्तों की तरह .

Unknown