सागर और दुनिया

सागर वही है ….एक ही है सबके लिए .

कोई मोती , कोई मत्स्य और

कोई सीपियाँ चुन लाता है .

किसी को नमकीन …खारा दिखता है ,

किसी को अमृत और लक्ष्मी का

जन्म दाता दिखता है.

ऐसी हीं यह दुनिया है .

यहाँ जो जैसा चाहता है ,

वैसा हीं पाता है .

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s