बादलों से ऊपर

बादलों से ऊपर एक और जहाँ हैं

जहा ना जाने कौन बैठा

नचाता है सबको कठपुतलियों की तरह ……

Advertisements