ज़िंदगी के रंग -73

बाहर जाने का रास्ता खोजती

काँच और असली खुली

खिड़की की मृग मरिचिका

में उलझी काँच पर सर पटकती

कीट या मक्षिका  को देख कर क्या

नहीं लगता कि हम भी अक्सर

ऐसे ही किसी उलझन में फँस

किसी भ्रम के पीछे

सिर पटकते रहते हैं ?

A life without Love

A life without love

is a waste.

“Should I look for spiritual

love, or material, or physical love?”,

don’t ask yourself this question.

Discrimination leads to discrimination.

Love doesn’t need any name, category or definition.

Love is a world itself.

Either you are in, at the center…

either you are out, yearning…

Rumi❤️❤️