लहरें

सागर की लहरें उमंग से किनारे को

आग़ोश में लेने और चूमने

बार बार आतीं.

हसरत से …..

दामन में सीप शंख ला

उपहार छोड़ जातीं .

किनारा ने डूबती

दर्द भरी आवाज़ में

सागर से कहा –

तुम्हें मैं नहीं रोक सकता .

हाँ , तुम्हारे जाते हुए लहरों

के निशाँ को अपने

दिल पर बनाए रखता हूँ.

10 thoughts on “लहरें

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s