नन्हा दीप

उगते सूरज ने नम आँखों से देखा

एक नन्हा सा दीप

अपनी बंद होती

कमज़ोर आँखों से ,

आख़री लौ में जलता- बुझता

सूरज की कमी पूरी करने में

जी जान से लगा हैं.

सूरज ने अपनी पहली किरण से

उसे सहला कर अपने

आने की ख़बर दे दी .

6 thoughts on “नन्हा दीप

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s