ज़िंदगी के रंग -95

सोंच- संभाल कर

बोली के जादू को काम में लाओ .

बातों के रंग

निराले होते हैं.

ना जाने कब , कैसे

किसी की बातें

दिल में उतर कर मन मोह लेतीं हैं.

किसी की , तीर बन दिल को चीर जातीं हैं,

नश्तर बन मन को छलनी कर देतीं हैं.

Rule of love – 1

How we see God is a direct reflection of how we see ourselves.

If God brings to mind

mostly fear and blame,

it means there is too much

fear and blame welled inside us.

If we see God as full of love

and compassion, so are we.

– Shams Tabriz , spiritual instructor of Rumi ❤️❤️