आँखें भी दस्तक देतीं हैं

कुछ चीजें, कुछ बातें , कुछ लोग रुह में समा जाते हैं।

यादें दिल को दस्तक देती है अौर आँखे पुरानी तस्वीरों को दस्तक देती है,

काश हम बच्चे होते !!!! – व्यंग

SHOCKING: Chinese company forces employees to crawl on roads for failing to meet year-end targets.

Rate this:


इससे तो अच्छे थे,
जब हम बच्चे थे।


  यह क्या बात हुई?
सूट बूट पहना,
भरी सङकों पर,
भीड़ में पब्लिक के सामने ऐसा नाच नचाते हो?
टारगेट पूरी नहीं हुई तो घुटनों पर चलाते हो?
अब तो लगता है ऑफिस में काम करने से ज्यादा अच्छा है ,
बच्चों की तरह चार पैरों पर घूमते रहना,
हम खबर बनें, दुनिया में हमारी तस्वीर बँटे।
इससे तो हम बहुत ज्यादा अच्छे थे,
जब हम बच्चे थे……….

According to reports, the company was temporarily shut down after pictures and videos of the punishment went viral. But for a Chinese company, failure to meet targets can invite a lot of public embarrassment for its employees.

Do you know?

Have you ever paid attention , one sleeps for one third of the life. If you live, say, 75 years, that’s 25 years asleep.

Rate this:

While you sleep, your body produces a hormone that may prevent you from acting out your dreams, leaving you virtually paralyzed.

Two powerful brain chemical systems work together to paralyze skeletal muscles during rapid eye movement (REM) sleep, according to new research.

courtesy- wikipedia & Learning mind

अश्क़

जाना तुम्हारा याद है, रोना याद है.

              लाखों अश्क बिखेरे , अश्क आहों में बदल गए ,

                                            इस के सिवा कुछ और याद नहीं .