दिल

यह दिल भी बड़ा अजीब है ,

कहता कुछ है और चाहता कुछ और है.

छिपाए छिपता नहीं,

जब  अंदर से खंङित…टूटा हो,

जो दर्द दिल तोड़ता है

वही शायद इसे ठीक भी  करें.