ज़िन्दगी के रंग -137

बहुत कुछ खोया है ज़िंदगी तेरे रह गुज़र में

अब तो सिर्फ़ हम हीं रह गए हैं

अपने आप को तेरे बजम में खोने के लिए.