परिपूर्ण जीवन

https://cdn.indiblogger.in/badges/235x96_top-indivine-post.png

जीवन में एक स्थिति आती है ,

जब परिपूर्णता का एहसास होता है .

आत्मा में आध्यात्मिकता आती है .

इस परिपूर्णता का अहसास

दुःख, सुख, मोह, माया या

किसी भी बात से हो सकती है .

सिद्धार्थ, बुद्ध बने सुख से भरे

परिपूर्ण जीवन होने के बाद .

मूढ़ मति कालिदास ज्ञान व

आध्यात्मिकता की पराकाष्ठ पर पहुँचे ,

अपने अज्ञानता से व पत्नी के धिक्कर के दुःख से .

अपने दस्यु जीवन को वाल्मीकि ने त्यागा,

किसी शिकारी की क्रूरता से प्रेम लीला

में डूबे करोंच – सारस पक्षी में से एक

के वध और दूसरे पक्षी के

विरह विलाप सुन कर.

अद्भुत श्लोक लिख कवि बन गए .

फिर आध्यात्मिक महाकाव्य

रामायण लिख डाली.

मार्ग चाहे कुछ भी हो ……

रूह में रूहानियत आनी चाहिए .

परिपूर्णता पाना जीवन का लक्ष्य होना चाहिए .

8 thoughts on “परिपूर्ण जीवन

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s