मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक दुर्व्यवहार से ङरें नहीं, सामना करें !

सेल्फ काउंसिलिंग व ऑटो सजेशन से अपने मनोवैज्ञानिक स्वयं बने !!!!

Rate this:

मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक दुर्व्यवहार

मनोवैज्ञानिक दुर्व्यवहारों को भावनात्मक दुर्व्यवहार भी कहा जाता है। यह एक व्यक्ति द्वारा किसी अन्य व्यक्ति को परेशान करने अौर उस पर हावी होने के लिये किया जाता है, जिसके मनोवैज्ञानिक यानि मानसिक आघात – चिंता, अवसाद, तनाव हो सकता हैं। यह अक्सर ङराने, धमकाने, गैसलाइटिंग और कार्यस्थल में दुर्व्यवहार,कड़वा, दोहरे अर्थ की बातें, उलाहना, व्यंग शामिल हो सकते हैं। यह अत्याचार, अन्य हिंसा, तीव्र या लंबे समय तक किसी भी व्यक्ति द्वारा किया जा सकता है, जैसे नजरबंदी, झूठे आरोप, झूठे विश्वास और अत्यधिक मानहानि। कभी-कभी मीडिया द्वारा प्रतिशोध भी देखा गया है। भावनात्मक दुर्व्यवहार की परिभाषा है: “किसी भी कृत्य जिसमें अलगाव, मौखिक हमला, अपमान, धमकी, घुसपैठ, या कोई अन्य ऐसा व्यवहार शामिल हो सकता है जो पहचान, गरिमा और आत्म-मूल्य की भावना को कम कर सकता है।” मनोवैज्ञानिक दुर्व्यवहार घातक दुर्व्यवहार के रूप में जाना जाता है। शोधकर्ताओं इसे “क्रोनिक मौखिक आक्रामकता” का नाम भी दिया है। जो लोग भावनात्मक दुर्व्यवहार से पीड़ित होते हैं उनमें बहुत कम आत्मसम्मान होता है, व्यक्तित्व में बदलाव हो सकता है। वे उदास, चिंतित या आत्मघाती भी हो सकते हैं। भावनात्मक शोषण की एक सार्थक परिभाषा है – “भावनात्मक दुर्व्यवहार किसी भी तरह का दुरुपयोग है जो प्रकृति में शारीरिक होने के बजाय भावनात्मक है। इसमें मौखिक दुरुपयोग और निरंतर आलोचना से लेकर सूक्ष्म सूक्ष्मतर, छेड़छाड़, और कभी भी प्रसन्न होने देने से इंकार जैसी कुछ भी बातें शामिल हो सकती हैं। भावनात्मक दुरुपयोग कई रूप ले सकता है। अपमानजनक व्यवहार के तीन सामान्य पैटर्न में आक्रामक, इनकार करना, और कम करना शामिल है ”।

ऐसा करनेवाले के लक्षण अौर व्यवहार –

चिल्लाना, अपमान करना, मजाक उङाना, ज्यादातर पीड़ित के लिए नकारात्मक बयानों का उपयोग करना, धमकी भरी बातें और धमकी देना, उपेक्षा करना , अौर लोगों से अलग करना या अलग कारने की कोशिश करना, पीड़िता की छवि को धूमिल करने की कोशिश, अपमानजनक बातें, गलत किये गये वयवहारों से इनकार।

निवारण

एक हर जगह हो सकता है, जैसे कि – परिवार, कार्यस्थल या अंतरंग संबंध में। दुरुपयोग की पहचान रोकथाम के लिए पहला कदम है। अक्सर दुर्व्यवहार पीड़ितों के लिए ऐसे व्यवहार को पहचानना अौर स्वीकार करना मुश्किल होता है। वे पेशेवर मदद के लिए जा सकते हैं। अनेक गैर-लाभकारी संगठन NGO हैं जो एस प्रदान करते हैं घरेलू और दुर्व्यवहार के लिए सहायक और रोकथाम सेवाएं, जैसे कि पुरुषों और महिलाओं के लिए घरेलू दुर्व्यवहार हेल्पलाइन (संयुक्त राज्य अमेरिका में, घरेलू हिंसा के पीड़ितों के लिए सूचना और संकट के हस्तक्षेप की पेशकश करने के लिए कर्मचारियों और प्रशिक्षित स्वयंसेवकों द्वारा संचालित है।

विदेशों में सहायता प्रदान की जाती हैं. हमारे देश में ऐसी सुविधाएं बहुत कम है। इसलिए या तो मनोवैज्ञानिकों की प्रोफेशनल सहायता लें या स्वयं ही ऑटो सजेशन या सेल्फ काउंसिलिंग द्वारा अपनी समस्या को सुलझाने की कोशिश कर सकते हैं। घबराएँ नहीं, बस अपने आप को मजबूत बनाने और समझदार होने की जरूरत है।

 

Courtesy – wikipedia

6 thoughts on “मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक दुर्व्यवहार से ङरें नहीं, सामना करें !

  1. यह निस्संदेह एक गम्भीर समस्या है जिसका सर्वाधिक प्रभावी समाधान स्वयं को सशक्त बनाना ही है क्योंकि परपीड़कों से सुधरने की अपेक्षा व्यर्थ है । अपने व्यक्तित्व,आत्म-सम्मान एवं मनोबल की सुरक्षा अपने आप ही करनी होगी । मेरे विचार में इस संदर्भ में किसी अन्य से परामर्श करने से भी अधिक लाभदायक है गौतम बुद्ध की उक्ति को स्मरण करके आचरण करना – ‘अप्प दीपो भव’ अर्थात् अपने दीपक स्वयं बनो । आपका आलेख सामयिक एवं उपयोगी है रेखा जी ।

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद जितेंद्र जी , इस उत्साहवर्धन के लिए . आपकी बातें बिलकुल उपयुक्त हैं.
      मेरा व्यक्तिगत ख़्याल हैं कि लम्बी ग़ुलामी के बाद हम में से कुछ लोग आज भी ग़ुलाम और बीमार ,सैडिस्ट मानसिकता से उबर नहीं पाए हैं.
      सच पूछिए तो इन सब का सब से सरल और अच्छा उपाय तो ध्यान और योग है. बुद्ध और बौध धर्म तो पूरी तरह से मानवया का हीं पाठ पढ़ाती हैं.
      आपका फिर से आभार .

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s