जिंदगी के रंग -148

दमकते रौशनी में समय बिताने वालों की जिंदगी का भी अँधियारा या तमस पक्ष हो ता हैतभी तो संजीदा हो वे बेचैनी में चैन ,अंधकार में प्रकाश खोजते हैं,

जिंदगी के रंग -144

जिज्ञासा, कुतूहल,

प्रश्न हीं प्रश्न है अंतर्मन में

यह प्रश्नों का अंतहीन

सिलसिला कब रुकेगा ?

या कभी नहीं रुकेगा ?

उत्तर मिलेगा ?

 तब कब मिलेगा ?

या कभी नहीं मिलेगा?

Heritage found! Rare idol stolen a century ago recovered from wall in house of priest; grandson tipped cops

जिस पर सुरक्षा का भार है,

वही सही ना हो तो ?

पर ग़नीमत है कि

सहेज कर रखा और

आज की पीढ़ी समझदार है.

सच्चाई स्वीकार कर ली .

देर आय पर दुरुस्त आए .

https://www.timesnownews.com/mirror-now/in-focus/article/heritage-found-rare-idol-stolen-a-century-ago-recovered-from-wall-in-house-of-priest-grandson-tipped-cops/409000?utm_campaign=fullarticle&utm_medium=referral&utm_source=inshorts