पाठक ज्यादा या लेखक? फर्क पङेगा क्या ? #MoreWritersThanReaders

India could soon have more writers than readers: Ruskin Bond

The ‘Padma Bhushan’ awardee said they must be sure to be able to write first. “Confidence in the language is a must. You should have something to say and be able to research on it well. Clarity is key.”

Rate this:

 

 

एक भी पंक्ति या वाक्य के लिखने के लिए

हाथ में कलम और मस्तिष्क में विचार होने चाहिए।

लेखक, और कवि बनने के प्रयास में

अगर लोग बौद्धिक अौर आत्मिक अभ्यास करते हैं ,

तब क्या फर्क पड़ता है कि पाठक ज्यादा है या लेखक?

यह तो मानसिक उपलब्धि है.

हम सभी जानते हैं कि हर स्तर के पाठक, लेखन ,लेखक व प्रकाशन मौजूद है।

और सभी का बाजार भी है।

अगर किसी ने लिखना शुरू कर दिया है।

तो क्या यह संभव नहीं है कि लिखते लिखते

उसके स्तर में, मानसिकता में, सुधार आए ?

और उसका स्तर ऊपर उठता जाए।

इसलिए हमारे दैश में ज्यादा जरूरी है कि

लोग पढ़ना और लिखना शुरू करें ।

कुछ भी लिखने के लिए पहली जरूरत है –

कुछ भी पढ़ना, हाथ में कलम उठाना ,

कुछ सीमा तक जागरूक और बौद्धिक होना ।

Edition 273

what do you think about this statement – India could soon have more writers than readers: Ruskin Bond#MoreWritesThanReaders

15 thoughts on “पाठक ज्यादा या लेखक? फर्क पङेगा क्या ? #MoreWritersThanReaders

  1. बहुत सार्थक बात कही है रेखा जी आपने ! आख़िर कुछ सार्थक रचना व्यक्ति के दुनिया को समझने के तरीके में भी तो इज़ाफ़ा करता है I .

    Liked by 2 people

    1. बिलकुल. हमारे देश में इसकी बहुत ज़रूरत है.
      ब्लोग पर बहुत से नए लेखकों को देखती हूँ, उनका जवाब भी देतीं हूँ. उन के लेखन में भूल और ग़लतियाँ होतीं हैं . पर अच्छी बात है कि वे कुछ नया , कुछ रचनात्मक और सार्थक करने की कोशिश कर रहे है.

      Liked by 1 person

    1. Very true Dash ji.
      We are a young country but we are not utilising the energy of our young generation properly.
      So, if some are interested in writing, let us encourage them.
      Thank you very much for your valuable views .

      Like

  2. Nice points you raise. I think writing and reading are not one at the expense of other. Yes a good writer transforms a society. But because I am not good, should I not write? Is it not easier to stop reading my trash than advising me not to write. More so when I am wasting my time and money.

    Liked by 2 people

    1. I believe that writing is creativity.
      So its better not to count the no of writer / reader, specially
      in a country like India. If more and more people or youngsters
      are trying to write, they should be motivated. Who knows, they
      may improve. They may learn reading good books.
      Thanks for sharing your valuable views.

      Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s