प्यार, इश्क पेचीदा ढाई अक्षर- हंसी के फव्वारे

आधुनिक वैज्ञानिक अध्ययनों के आधार पर निष्कर्ष निकला है कि प्यार, इश्क दिल का मामला नहीं बल्कि मस्तिष्क में हुए कुछ परिवर्तनों का परिणाम है। जिसका वैज्ञानिक रूप से अध्ययन किया जा सकता है.

As it turns out, love is all about the brain – which, in turn, makes the rest of your body go haywire. According to a team of scientists led by Dr. Helen Fisher at Rutgers, romantic love can be broken down into three categories: lust, attraction, and attachment.

Rate this:


लव, प्यार, इश्क का मारा विज्ञान, हार्मोन से अनजान

फूलों , बैलून, उपहारों से लदे बेचारे प्रेमी ने आते ही इजहार-ऐ-प्रेम शुरू किया।

अनमनी प्रेमिका ने कहा- यह सब तो ठीक है पर मुझे तुम्हारे प्रेम का सुबूत चाहिए।

कहा उसने- क्या मैं दिल चीर कर दिखाऊ, मेरी आंखों में झांक कर देखो,  मेरे रग रग में तुम बसी हो।

नहीं, नहीं बस थोड़े से ब्लड के सैंपल चाहिए – प्रेमिका ने बड़ा इतरा कर कहा।

कहते हैं प्यार दिल का मामला नहीं दिमाग का केमिकल लोचा है, लव हार्मोन का मामला है।

जांच कराने के लिए तो ब्लड सैंपल लगेगा ही ।

 तुम्हारे जैसे आधे दर्जन मजनूअों का जाँच करा  रफा-दफा कर चुकी हूं अब बारी तेरी है।

हैरान-परेशान प्रेमी ने कहा- देखो गिफ्टों, मूवी से जाने कितनी लड़कियों को पटा चुका हूं

मेरी  दर्जन भर गर्लफ्रेंडस में एक तुम खून खराबे की बातें कर रही हो।

हमने तो यही जाना – “प्यार दिल दा मामला है” !!!

मुझे ऐसी अग्नि परीक्षा  लेनेवाली प्रेमिका नहीं चाहिए।

 

 

 

 

27 thoughts on “प्यार, इश्क पेचीदा ढाई अक्षर- हंसी के फव्वारे

  1. Omg…😂😂
    पहली दफा पढ़ने में हंसी मजाक लगती है लेकिन बहुत ही गहरी बात छुपी है इन पंक्तियों में,,, blood test …

    Liked by 3 people

    1. बिलकुल गहरी और वैज्ञानिक बात है. इसलिए तो scientist का नाम भी मैंने दे दिया है. ताकि किसी को शक ना रहे. 😊😂

      Liked by 2 people

    1. हाँ, लिखा तो मज़ाक़ में है. पर अब तो विज्ञान यह साबित कर रहा है कि प्यार दिमाग़ में आए बदलाव का नतीजा है.

      Liked by 1 person

  2. Last Sep I also wrote something similar for an online Humour Site:
    रक्त परीक्षण

    प्रेमी से विवाह का प्रस्ताव सुन
    प्रेमिका ने कहा
    साईन्स ने ऐलान किया
    ब्लड टेस्ट कर के पता चलता है
    लव का स्तर हॉर्मोन्स द्वारा !
    मुझे भी test करवाना है
    दो अपना रक्त का नमूना
    परिक्षण के बिना,
    कहूँ नहीं मैं हाँ |
    काफी समय से
    प्रेमिका के नखरे उठाता
    बोल पड़ा प्रेमी
    “Excuse me !”
    तीन बरस से खून taste कर रही मेरा
    क्या उससे जी भरा नही तेरा |
    तू अपना ही test करवा ले
    अब शायद तुझमें मेरा ही बह रहा |
    -रविन्द्र कुमार करनानी
    5 Sep. 2018
    rkkblog1951.wordpress.com
    rkkarnani@gmail.com

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s