Hospital staffers didn’t respond to her cries. Woman delivers her own baby

मातृत्व के मर्मांतक और

असहनीय कष्ट को

रात्रि के नीरवता में

अकेले सहना क्या सरल है?

उस माँ के साहस और

हौसले को सलाम है।

क्या हम पाषाण युग में रहते हैं?

या लोगों के दिल पाषाण …

पत्थर …. के हो चुके हैं?

https://m.hindustantimes.com/india-news/hospital-staffers-didn-t-respond-to-her-cries-woman-delivers-her-own-baby/story-tyCjCxeWBsWV1wvt3WoYTI.html?utm_campaign=fullarticle&utm_medium=referral&utm_source=inshorts

पावर ड्रेसिंग क्या है ? Power Dressing

Dressing for Success

Rate this:

1970-80  में पावर ड्रेसिंग की शुरुआत अमेरिका में हुई। जॉन टी मोलॉय ने कार्यक्षेत्र में महिलाओं के लिए ड्रेस कोड का सुझाव दिया। जिससे उन्हें भी पुरुषों के बराबर प्रभाव,  हक और सम्मान मिल सके। यहाँ से पावर ड्रेसिंग के विचार की शुरुआत हुई।

जो आज बहुत जरुरी मानी जाती है। आज पावर ड्रेसिंग एक अनूठी, नई शैली के रुप में  पुरुष अौर महिलाअों दोनों के लिये समान महत्व ले कर उभरकर सामने आयी है। क्योंकि इससे आत्मविश्वास,करियर,बॉडीलैंग्वेज,आकर्षण  प्रभावित होते हैं।

बिना शब्दों के, बिना बोले अपने व्यक्तित्व को प्रभावशाली बनाने के लिए सही कपड़े, ब्लेज़र, पहनावा, जूते और  साज सज्जा  आज पावर ड्रेसिंग का जरुरी हिस्सा बन चुका है। यह कार्यस्थल और अन्य जगहों पर आप के प्रभाव को बढ़ाता है और सकारात्मक असर ङालता  है।      


 


 

Question Papers (UPSC CSE Pre 2019)

अलबेला दर्पण by Arun अर्पण

संघ लोक सेवा आयोग द्वारा 2 जून 2019 को आयोजित सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2019 के दोनों प्रश्न पत्रों को नीचे दिए गए लिंक से डाऊनलोड करें –

पेपर – 1 (सामान्य अध्ययन)

पेपर – 2 (CSAT)

View original post

ज़िंदगी के रंग -160

इंसान की फ़ितरत होती है ,

मधुर यादों और

सुहानी कल्पनाओं में जीने की.

अपने अतीत की यादों

और भविष्य की संभावनाओं में

अपने को सीमित न करें .