बदला बदला चाँद

कुछ दिनों पहले चाँद ने किया कुछ वायदा

और बादलों में खो गया .

आया इस हफ़्ते सामने

बदला बदला सा रूप ले कर ,

नया नया सा चाँद .

रोज़ रोज़ रूप बदलते

किस चाँद से पूछूँ

उसका पुराना वायदा ?

लोग भी ऐसे ही बदलते हैं।

समझना मुश्किल है ,

ऐसे बदलते लोगो के

किस बात पर यक़ीन करें ?

किस पर नहीं?

16 thoughts on “बदला बदला चाँद

  1. बिल्कुल ठीक कहा रेखा जी आपने । यही दुनिया का सच है । पुरानी फ़िल्म ‘वरदान’ का गीत याद आ गया –
    कुछ लोग यहाँ पर ऐसे हैं
    हर रंग में रंग बदलते हैं
    हम उनको और समझते हैं
    पर वो कुछ और निकलते हैं

    Liked by 1 person

    1. लोगों के बदलने की शिकायत क्यों करनी है? दुनिया हीं ऐसी है. आपने बिलकुल सही गीत लिखी है . बहुत आभार आपका .

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s