ख़ुद को ख़ुद से

कुछ उलझा उलझा ,

कुछ रूठा रूठा सा है वजूद अपना

ख़ुद को ख़ुद से याद करूँ कैसे ?

करना है ख़ुद को ख़ुद से आज़ाद .

करुँ कैसे ?

बड़ा उलझा प्रश्न है.

कभी कभी उठने वाली कसक,

मन की दर्द , पीड़ा , विरह

किसी को समझाऊँ कैसे ?

अपने से, अपने रूह से बात करूँ कैसे ?

Lalremsiami in her village after winning FIH Women’s Series Finals

कौन कहता है लड़कियाँ कमज़ोर होती है?

Lalremsiami stayed with the Indian team to play semi-final and final on June 23 despite losing her father to a heart attack. She told her coach that she wants to play and make her father proud.

https://www.google.co.in/amp/s/www.indiatoday.in/amp/sports/hockey/story/lalremsiami-hero-welcome-in-home-village-fih-women-series-final-win-1556389-2019-06-26