अतीत बनते हमने देखा है…

वक़्त गुजराता है बे आवाज़

लाख रोक लो घड़ी के काँटे

अंगुलियों से अपने …..

वक़्त की मौज़ों का फिसलना

रवायत है क़ुदरत की .

ज़िंदगी जी लो इस घड़ी में वरना ये पल

हाथ से फिसल कर अतीत बनते हमने देखा है.

8 thoughts on “अतीत बनते हमने देखा है…

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s