5 fold hike in rape of kids from 1994 to 2016: Report

कहते हैं हम इंसान तरक़्क़ी कर रहें हैं.

आगे बढ़ रहें हैं.

पर जा कहाँ रहें हैं?

ना इंसानों, ना बच्चों, ना पशुओं

किसी के बारे में नहीं सोंच रहें हैं.

अफ़सोस !!!!

क्रूरता की इंतहा है.

https://m.hindustantimes.com/india-news/5-fold-hike-in-rape-of-kids-from-1994-to-2016-report/story-Qg9eZxxZTgfr6k563ldfII.html?utm_campaign=fullarticle&utm_medium=referral&utm_source=inshorts

7 thoughts on “5 fold hike in rape of kids from 1994 to 2016: Report

  1. अफसोस तो इसी बात का हैं…
    इंसान, इंसान न होकर हैवान हो गया हैं…
    दरअसल अपने देश का कानून लचीला हैं..
    कठोर कानून बनें …तो यह सब न हो…
    सीधे सूली पर चढाया जाऐ…या चौराहे पर खड़ा करके उनके लिंग को उखाड़ फैका जाऐ….

    Liked by 3 people

    1. क़ानून में काफ़ी सुधार लाया गया है. विशेष कर बच्चों के साथ हुए क्रूरतापूर्ण व्यवहार रोकने के पोक्सो/ POCSO आदी बने हैं. पर अपराध बढ़ता हीं जा रहा है.

      Like

  2. इंसान कुछ ऐसे हैं जिन्हें इंसान कहना ही गुनाह है। क्रोध है मगर किसपर जटाएं…..आखिर ऐसी शिक्षा तो कोई माँ बाप नही देता।

    Liked by 1 person

  3. An RTI Application’s reply says that only 50 people are convicted till date 2018 since inception of this law. One Marathi new channel has exposed the misuses of POCSO Law and quoted that many gangs are working in this conspiracy where a girl is prepared to register case against an innocent man for money or personal revenge.

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s