कविता एक दर्पण -सौंदर्य

यह सच है कि

काव्य ……कविता …

एक दर्पण है,

जो विकृत को भी सुंदर बना देती है .

पर दरअसल ख़ूबसूरती तो

देखने वालों के नज़र में होती है .

यह तो अपना नज़रिया है

कि हम क्या देखना चाहते हैं.

वरना कड़वाहट, कटुता भरी

कविताएँ भी रची जाती हैं.

Poetry is a mirror which makes beautiful that which is distorted.

Percy Bysshe Shelley