बूँदें

बारिश की झमाझम बरसती

बूंदों से पूछा –

क्यों इतने ऊपर जाकर

वापस नीचे आती हो ?

हँसकर कहा बूंदों ने –

यह तो धरती को चूमने

की ख़्वाहिश है…..

जो हमें खींच लाती है .

28 thoughts on “बूँदें

    1. बड़ी रिमझिम बारिश हो रही है यहाँ . उसे देखकर कुछ पंक्तियाँ मन में आ गयी. बस लिख डाला .
      आपका शुक्रिया

      Liked by 1 person

      1. उनको भी लगा होगा
        कवयित्री हैं
        कुछ जरूर लिखेंगी मेरे सम्बन्ध में
        और आपने लिख ही दिया।🙂

        Liked by 1 person

  1. बारिश के मौसम में तुम्हें याद करने कि आदतें पुरानी है – अबकी बार सोचा है पुरानी आदतें बदल डाले लेकिन फिर खयाल आया आदतें बदलने से बारिश तो नहीं रुकती😅😅😅

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s