Posted in हिन्दी कविता, my achievement, Uncategorized

मैं एक लड़की ( कविता 1 )

मेरी पाँच कविताएँ / My 5 Poems Published in She The Shakti, Anthology– POEM 4

 

इस दुनिया मॆं मैने
आँखें खोली.
यह दुनिया तो
बड़ी हसीन
और रंगीन है.

मेरे लबों पर
मुस्कान छा गई.
तभी मेरी माँ ने मुझे
पहली बार देखा.
वितृष्णा से मुँह मोड़ लिया

और बोली -लड़की ?
तभी एक और आवाज़ आई
लड़की ? वो भी सांवली ?

Source: मैं एक लड़की ( कविता 1 )

Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

नाम -कविता 

खिला खिला गुलमोहर तपिश में मोहरें लूटाता रहा…..

पूरा चाँद,  रात भर  जल कर चाँदनी बाँटता  रहा.

ना पेड़ों ने कहीँ अपना नाम लिखा ना शुभ्र गगन में चाँद ने.

और हम है घरों – कब्रों पर अपना नाम लिखते रहते है.

 

half

 

Images from internet.

Posted in हिन्दी कविता, hindi poem, Uncategorized

बेलगाम   ख्वाहिशें-  कविता 

कुछ ख्वाहिशें बेलगाम उडती,

 बिखरती रहती है हवा के झोंकों सी.

 सभी अरमानों को पूरा करना मुशकिल है,

और  बंधनों में बाँधना भी मुश्किल है.

Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

धोखा -कविता Trust

It takes years to build up trust, only seconds to destroy it. But betrayal has its positive side too.

“Out of suffering have emerged the strongest souls; the most massive characters are seared with scars.”
― Kahlil Gibran

 

 किसी ने धोखा क्या दिया ,

आंखे खुल गई।

                                गैरों अौर अपनों की पहचान मिल गई।

आँखों में धूल  झोंकी ,

     दुनिया और बेहतर नजर आने लगी………..

 

Image from internet.

Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

मंदिर- कविता

मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारे….

में हम सब के  जलाये , 

अगरबत्ती, मोमबत्ती, दीप……..

जलने के बाद

इनकी  धूम्र रेखाएं अौर  रौशनी

आपस में   ऐसे घुलमिल जातीं हैं,

अगर चाहो भी तो अलग नहीं कर सकते।

हम कब ऐसे घुलना-मिलना सीखेंगे?

 

image courtesy internet.

 

Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

अमलतास – कविता, golden shower flower

Golden shower tree  is an ayurvedic medicine,  also known as aragvadha – “disease killer” 

आयुर्वेद – अमलतास वृक्ष के सभी भाग औषधि के काम में आते हैं। यह  पित्तनिवारक, कफनाशक तथा वातनाशक हैं। 

स्वर्णपुष्पी कहो या अमलतास,

जलती गर्मी, तप्ते धूप में

स्वर्ण सा दमकता,

नाजुक पंखुङियों के

साथ हवा के झोंके से,

कानों के झुमके सा झुमता, झूलता!!!!!

  प्रचंङ ताप में,

कैसे रहता इतना

ताजा, सुकुमार अौर मनमोहक?

Image from internet.

Posted in हिन्दी कविता, news, Uncategorized, women conditin in society

जिंदगी के रंग 14 – कविता

NEWS- The Sunday Express, March 19, 2017

1.It was in March last year that her husband Shankar was hacked to death by goons hired by her parents, a caste killing caught on camera that has stopped the nation full a letter, Kaushalya is a new woman women- ‘Yes, I am alone .  but I will fight it out’

2. Lakshmi, daily  wager at the building site in East Delhi – ‘ At time we work in the morning and give birth in the evening’

3. 11 year old to become Britain’s youngest mother

नाम  कुछ भी हो, क्या उसे मदद चाहिए?

थोड़ी जिद्दी, थोङी हैरान-परेशान,

माया पंछी की तरह मायावी।

लड़ती झगड़ती दुनिया की अनुचित बातों से,

फिनिक्स

की तरह हर बार फिर से उठ जाती

पता नहीं कहां से वह शक्ति लाती

कितनी बार राख से पुनर्जन्म लेने की काबलियत है उसकी?

हर बार, हर बार………..पर कितनी बार……..?

कौन जाने कितनी बार??????????

अगर उसका साहस चुक  गया तब?

In Greek mythology, phoenix is a long-lived bird that is cyclically regenerated or reborn. Associated with the Sun, a phoenix obtains new life by arising from the ashes . may symbolize renewal

फ़ीनिक्स एक बेहद रंगीन पक्षी होता है । जिस की चर्चा प्राचीन मिथकों व दंतकथाओं में पाया जाता है। माना जाता है कि वह मर कर भी राख से पुनः जी उठता है।