Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

धोखा -कविता Trust

It takes years to build up trust, only seconds to destroy it. But betrayal has its positive side too.

“Out of suffering have emerged the strongest souls; the most massive characters are seared with scars.”
― Kahlil Gibran

 

 किसी ने धोखा क्या दिया ,

आंखे खुल गई।

                                गैरों अौर अपनों की पहचान मिल गई।

आँखों में धूल  झोंकी ,

     दुनिया और बेहतर नजर आने लगी………..

 

Image from internet.

Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

मंदिर- कविता

मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारे….

में हम सब के  जलाये , 

अगरबत्ती, मोमबत्ती, दीप……..

जलने के बाद

इनकी  धूम्र रेखाएं अौर  रौशनी

आपस में   ऐसे घुलमिल जातीं हैं,

अगर चाहो भी तो अलग नहीं कर सकते।

हम कब ऐसे घुलना-मिलना सीखेंगे?

 

image courtesy internet.

 

Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

अमलतास – कविता, golden shower flower

Golden shower tree  is an ayurvedic medicine,  also known as aragvadha – “disease killer” 

आयुर्वेद – अमलतास वृक्ष के सभी भाग औषधि के काम में आते हैं। यह  पित्तनिवारक, कफनाशक तथा वातनाशक हैं। 

स्वर्णपुष्पी कहो या अमलतास,

जलती गर्मी, तप्ते धूप में

स्वर्ण सा दमकता,

नाजुक पंखुङियों के

साथ हवा के झोंके से,

कानों के झुमके सा झुमता, झूलता!!!!!

  प्रचंङ ताप में,

कैसे रहता इतना

ताजा, सुकुमार अौर मनमोहक?

Image from internet.

Posted in हिन्दी कविता, news, Uncategorized, women conditin in society

जिंदगी के रंग 14 – कविता

NEWS- The Sunday Express, March 19, 2017

1.It was in March last year that her husband Shankar was hacked to death by goons hired by her parents, a caste killing caught on camera that has stopped the nation full a letter, Kaushalya is a new woman women- ‘Yes, I am alone .  but I will fight it out’

2. Lakshmi, daily  wager at the building site in East Delhi – ‘ At time we work in the morning and give birth in the evening’

3. 11 year old to become Britain’s youngest mother

नाम  कुछ भी हो, क्या उसे मदद चाहिए?

थोड़ी जिद्दी, थोङी हैरान-परेशान,

माया पंछी की तरह मायावी।

लड़ती झगड़ती दुनिया की अनुचित बातों से,

फिनिक्स

की तरह हर बार फिर से उठ जाती

पता नहीं कहां से वह शक्ति लाती

कितनी बार राख से पुनर्जन्म लेने की काबलियत है उसकी?

हर बार, हर बार………..पर कितनी बार……..?

कौन जाने कितनी बार??????????

अगर उसका साहस चुक  गया तब?

In Greek mythology, phoenix is a long-lived bird that is cyclically regenerated or reborn. Associated with the Sun, a phoenix obtains new life by arising from the ashes . may symbolize renewal

फ़ीनिक्स एक बेहद रंगीन पक्षी होता है । जिस की चर्चा प्राचीन मिथकों व दंतकथाओं में पाया जाता है। माना जाता है कि वह मर कर भी राख से पुनः जी उठता है।

Posted in हिन्दी कविता, Uncategorized

जिंदगी के रंग ( 2) कविता

चलते -चलते लड़खड़ा गये क़दम,
तभी सहारे के लिये बढ़ आये नाजुक हाथ,
हैरानी से देखा,
ये तो वही हाथ हैं,
जिन्हे कभी मैंने पकड़ कर चलना सिखाया था,
सचमुच, जिंदगी रोज़ नये रंग दिखाती हैं हमें.

 

Source: जिंदगी के रंग ( 2) कविता

Posted in हिन्दी कविता, Hindi kavita, Uncategorized

धोखा और फरेब-कविता Deception- poetry

Kerala mangoes arrive early this year – growers expect them to be ready by the second week of March. ( News; indianexpress, Mon, Feb 13, 2017)

Research reveals that global warming is compelling birds into early migration. Migrating birds are arriving at their breeding grounds earlier as global temperatures rise.

धोखा और फरेब हमने किस- किस को सिखा दिया है?

प्राकृति को देखकर

 लगता है क्या कभी हम भी ऐसे थे

पवित्र- पावन, सच्चे?

अब तो करवटें बदलते मौसम ने भी

रंग दिखाना शुरु कर दिया  है

समय से पहले  प्रवासी पंछी उड़कर आने जाने लगे हैं

फल – फूल भी मौसम से पहले खिलने फलने लगे हैं

क्या हमसे यह धोखा फरेब मौसम ने भी सीख लिया है?

Image courtesy Chandni  Sahay.

Posted in A road accident,, हिन्दी कविता, Uncategorized

धुंध- जिंदगी के रंग- 11(कविता) A Tributes -poetry

Etah road accident: School bus collides with truck killing over 20 school kids, dozens injured.( 19th January, 2017)

palash

राह चलते-चलते ,

सामने धुंध छा गया।

धुंधली राह में ङगर खो गया।

हँसते- खिलखिलाते नन्हें-मुन्ने भी

खो गये कोहरे की चादर में।

रह गये बिखरे नन्हें जूते, किताबें, स्कूल बैग…….

जाते हुए शिशिर अौर

आते हुए वसन्त ने पलाशों को खिला दिया।

जैसे ‘जंगल में आग’ लगा दिया।

पर ये फूल से नन्हें-मुन्ने  समय से पहले मुरझा क्यों गये?

आग बनने से पहले, राख में खो गये।

रह गये ‘टेसू के आग’ से टीस दिलों में………

शब्दार्थ- Word meaning

जंगल की आग,टेसू, पलाश – flower known as flame-of-the-forest, bastard teak.

शिशिर -Winter Season

वसन्त – Spring Season

टीस – twinge, suffering, pain, misery, ache.

Images from Internet.