Posted in हिंदी कविता, हिन्दी कविता

जुनून अौर जोश

अपने  विचारों को

पढ़ने अौर पकङने के जुनून अौर जोश ने

मनन करना सीखा दिया।

मन के   विचारों  

को पन्नों पर  

शब्द जाल बना कर, ऊतारना  सीखा दिया।

Advertisements
Posted in हिन्दी कविता, hindi poem

जीवन के रंग – 32

इस जीवन यात्रा में…..

एक बात तो बङे अच्छे से समझ आ गई,

अपनी लङाई खुद ही लङनी  होती है।

इसमें

शायद ही कोई साथ देता है,

क्योंकि

  लोग   अपनी लङाईयों अौर उलझनों में उलझने होते हैं।

Posted in हिन्दी कविता, hindi poem

जीवन के रंग  – 31 सघन अँधेरा 


कालरात्रि सा सघन अँधेरा , 

आता  है जीवन में हर रोज़ .

पर 

आकाश के  एक एक कर 

बूझते सितारे,

करते है सूरज 

औ भोर की 

किरणों का आगाज …..

बस याद रखना है –

हर रात की  होती  है

 सुहानी भोर !!!



Posted in हिन्दी कविता

नमन !!

I stare at the sky at night…….. destiny has  taken away my brightest star, and it’s you my dad.    Wish you Best birthday!

लाखों शब्दों में भी कुछ अनुभव

एक तस्वीर नहीं बना सकती।

जैसे उन्मुक्त आकाश  का  ….

पूरा का पूरा चित्रण  नहीं होता।

स्मृति, यादें ….धरोहर रह गईं।

शेष हुई वह ज्योति, शेष हुआ  वह शंखनाद….

आज शब्दों मे बाँधे बिना नमन है !!!!

 

Posted in हिन्दी कविता

जिंदगी के रंग – 27

बेचैन लहरें किनारे पर सर पटकती,

कह रहीं हैं – ये सफेद झाग, ये खूबसूरत बुलबुले

बस कुछ पल के लिये हैं।

जिंदगी की तरह……

बीत रहे वक्त अौ लम्हे को…..

जी लो जी भर के।

Posted in हिन्दी कविता, hindi poem

मेरा पुराना शहर 1 —- धनबाद Dhanbad

Dhanbad town – An important coal field of India (Dhan /धन + Abad /आबाद = धनबाद – prospered with wealth ) is mineral rich region.Dhanbad is famous for its about 112 coal mines . In some places ( Jharia ) coal field has been burning underground for over one hundred years. Residents living across 250 sqkm sit on a ticking time bomb. There have been many instances of land subsidence leading to deaths of local residents.

 

एक शहर है, जहाँ वर्षों गुजारा है,
मीठी- खट्टी यादों से लबरेज़…….

धन से आबाद है- धनबाद !!!
कोयले की खानों के लिये जाना-माना
काला हीरा कहलाने वाला ….

कोयले की कुछ खानें जलती
दिल मे छाले अौर धधकती आग लिये।

कोयले निकाल लिये जाने से खोखली,
अौर हर दिन घरों- लोगों के साथ धंसती..

 जान हथेली पर ,
ले ऊतरते हैं कामगार
इन दमकते हीरों की खानों में।
ना जाने कितने सो जाते हैं,
चिर निंद्रा में इसे पाने में।

कोयले माफिया की
गैंगस आफ वासेपुर सबने देखी अौर जानी……
पर सुध लेने वाला कोई नहीं।

ऐसा है, पर फिर भी अपना है।
अनमोल यादें अपनी हैं।

 

Images from internet.

Posted in हिन्दी कविता

सूरज धुल कर चाँद

 

कशमकश में दिवस बीत गया….

सूरज धुल कर चाँद हो गया।

तब

आसमान के झिलमिलाते सितारों ने कहा –

हौसला रखो अौर आसमान चुमने की कोशिश करो।

क्योकिं अगर

उतना ऊपर ना भी पहुँच सके,

तब भी हम सितारों तक 

 तो जरुर पहुँच जाअोगे!!!