मिर्जा गालिब (27 Dec 1796 – 15 Feb 1869)

मिर्ज़ा असद-उल्लाह बेग ख़ां उर्फ “ग़ालिब” (२७ दिसंबर १७९६ – १५ फरवरी १८६९) उर्दू एवं फ़ारसी भाषा के महान शायर थे।

Rate this:

Advertisements

कोई उम्मीद बर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती

मौत का एक दिन मु’अय्यन है
नींद क्यों रात भर नहीं आती

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नहीं आती

जानता हूँ सवाब-ए-ता’अत-ओ-ज़हद
पर तबीयत इधर नहीं आती

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ
वर्ना क्या बात कर नहीं आती

क्यों न चीख़ूँ कि याद करते हैं
मेरी आवाज़ गर नहीं आती

दाग़-ए-दिल नज़र नहीं आता
बू-ए-चारागर नहीं आती

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

मरते हैं आरज़ू में मरने की
मौत आती है पर नहीं आती

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुमको मगर नहीं आती।

meaning-  बर नहीं आती = पूरी नहीं होती), (सूरत = उपाय) (मुअय्यन = तय, निश्चित)

(सवाब = reward of good deeds in next life, ताअत = devotion,ज़हद = religious deeds or duties चारागर – doctor, healer.

Generous things

(Bhartṛhari was a great Sanskrit poet, writer and a king who renounced the world. भार्तृहरि एक महान राजा व संस्कृत कवि थे, जिन्हों ने अपनी पत्नी के धोखे से आहत हो कर सन्यास ले लिया था।)

Rate this:

Trees bend low with ripened fruit;

clouds hang down with gentle rain;

noble people bow graciously.

This is the way of generous things.

 

~~Bhartrhari

ख़्वाब

Birth is scented with death. ~~Bhartrihari

Rate this:

ख़्वाहिशों से बुने थे कुछ ख़्वाब

एक झटके में सारे ताने बाने बिखर गए.

हम समेटने में लगे हैं …….

यह जानते हुए कि जाना है एक दिन सबको .

(Bhartṛhari was a great Sanskrit poet, writer and a king who renounced the world. भार्तृहरि एक महान राजा व संस्कृत कवि थे, जिन्हों ने अपनी  पत्नी के धोखे से आहत हो कर सन्यास ले लिया था।)

The power of love

On Mahatma Gandhi 71st death anniversary

Rate this:

The day the power of love

overrules the love of power,

the world will know peace.

                ~~ Mahatma Gandhi