Posted in हिंदी कविता -समाचार आधारित, Uncategorized

ज़माने का दौर – कविता

News – Blast at Chinese kindergarten was a bomb attack

  Nursery blast kills seven in China’s Xuzhou

हमारे स्कूल पर बम गिरते हुए …..
क्या उनके जेहन में एक बार भी, 
अपने घरों, बच्चों का ख़याल आया था ?

लोग इतने क्रूर क्यों है ?
हमने उनका क्या बिगाडा था ?
हम इस कठोर दुनिया के लिये नहीँ बने ……

इसलिये दुनिया से विदा हो गये ।
पर , इतने बड़े  अपराध बोध के साथ ……
क्या ऐसे लोग चैन से जी सकेगें ??

k1.png

“ज़माने के जिस दौर से हम गुज़र रहे हैं, अगर आप उससे वाकिफ़ नहीं हैं तो मेरे अफसाने पढ़िये और अगर आप इन अफसानों को बरदाश्त नहीं कर सकते तो इसका मतलब है कि ज़माना नाक़ाबिले-बरदाश्त है। मेरी तहरीर(लेखन) में कोई नुक़्स नहीं । जिस नुक़्स को मेरे नाम से मनसूब किया जाता है, वह दरअसल मौजूदा निज़ाम का एक नुक़्स है। मैं हंगामा-पसन्द नहीं हूं और लोगों के ख्यालात में हैज़ान पैदा करना नहीं चाहता। मैं तहज़ीब, तमद्दुन, और सोसाइटी की चोली क्या उतारुंगा, जो है ही नंगी। मैं उसे कपड़े पहनाने की कोशिश भी नहीं करता, क्योंकि यह मेरा काम नहीं, दर्ज़ियों का काम है ।”
― Saadat Hasan Manto

Posted in Uncategorized

Nature

Jyoti

The calm trees

The sleeping grass

The chirping birds

The musical winds

The magnetic paths

The dancing river

The eyes can’t get better

View than this.

The mind can’t get nothing

More peaceful than this.

The soul can’t get more

Freedom than this.

The brain can’t meditate

Better than this.

~Jyoti  Yadav

View original post

Posted in चंद पंक्तियाँ, हिंदी कविता, Uncategorized

आँसू अौर मुस्कान

 

कुछ हँस कर, कुछ रो कर झेलते हैं।

 दुःख सहने का अपना- अपना तरीका होता है।

क्या अच्छा हो, गर आँखों में आँसू  पर  होंठों पर मुस्कान हो।

 

 

Image from internet.

Posted in हिंदी कविता, Uncategorized

आँसू और अफीम – कविता 

Opium addiction in Rajasthan, India : A social Issue —- Poppy flowers are very beautiful and delicate. Opium is produced from it. India is the only country , produces opium gum legally and one of very few countries that legally allows growing poppy to get opium for medicinal purpose.

But the negative aspect is – drug trafficking and opium addiction, As no. of opium users are increasing day by day, specially in Rajasthan.

पेड़ की छाया में बैठे पुरुषों की

अफीम की पिनक में डूबी मजलिस ने,

गुङगुङाते हुक्के का धुआँ उडाते हुए दूर ….. देखा………..

रंग बिरंगे , शीशे जड़े लहँगें-चोली में मीलों से

तपती रेत पर, ठंडे पानी के

घड़े एक पर एक रख

गाती गुनगुनाती औरतों को.

अौर कहा –

इन लुगाईयों के मजे तो देखो ,

गीत गा रहीं है , ना दिखता है

हम कब से भूखे बैठे है ……

पर क्या उन्हे दिखता है लुगाईयों के

गर्म रेत से पड़े पैरों के छालें

और चूल्हे की लकड़ी से उठे धुयें से आये आँसू ???

फ़िर भी …..

वे पॉपी के फूलों सी नाजुक अौरतें

गाती गुनगुनाती रहती है …..

R w

राजस्थान, भारत में अफीम की लत: एक सामाजिक मुद्दा है —-पॉपी के फूल बङे नाजुक अौर सुंदर होते हैं। इससे अफिम तैयार किया जाता है।   भारत एकमात्र ऐसा  देश है जो कानूनी तौर पर अफीम गम का उत्पादन करता है । यह उन गिनती के  देशों में से एक है, जो कानूनी रूप से औषधीय उद्देश्य के लिए  अफीम प्राप्त करने के  लिये पॉपी की  खेती की अनुमति देता है।

लेकिन नकारात्मक पहलू है – अफीम की तस्करी और  दिन पर दिन   नशेङियोँ कि संख्या में वृद्धि।

 

Source: आँसू और अफीम – कविता