Posted in चंद पंक्तियाँ, hindi poem

रिश्ते

झुक कर रिश्ते निभाते-निभाते एक बात समझ आई,
कभी रुक कर सामनेवाले की नज़रें में देखना चाहिये।
उसकी सच्चाई भी परखनी चाहिये।
वरना दिल कभी माफ नहीं करेगा
आँखें बंद कर झुकने अौर भरोसा करने के लिये।

Advertisements
Posted in Uncategorized

Plant a seed

“The fact that I can plant a seed

and it becomes a flower,

share a bit of knowledge and it becomes another’s, smile at

someone and receive a smile

in return, are to me continual

spiritual exercises.”

— Leo Buscaglia

Posted in चंद पंक्तियाँ, hindi poem

तन्हाई से मुलाकात

तन्हाई से मुलाकात हुई,

उसने अपनी भीगी पलकों को खोली,

…..बोली

मैं भी अकेली …..

क्या हम साथ  समय

बिता सकते हैं?

हम नें कहा – हाँ जरुर …..

अकेलेपन अौर पीङा से

गुजर कर हीं कला निखरती है।