चेहरा

चेहरा क्या है?

ईश्वर प्रदत उपहार….

हमारे उम्र अौर विचारों की छाया।

पर ये लफ्ज , ये बोली,

 सच्चाई का  आईना है

उपहार – मेरे जीवन की सच्ची रहस्यमय घटना, The Gift – a mysterious story

            बात वर्षो पुरानी है।  हमारे   पड़ोस के परिवार से हमारे बहुत अच्छे संबंध थे। उनका युवा पुत्र  हम लोगों से बहुत हिलामिला हुआ था। उसकी मां अक्सर कहा करती थे, वह किसी की बात माने ना माने आपकी हर बात मानता है। इसलिए अक्सर उस के किसी बात से परेशान होने पर उसकी माँ उसे मेरे पास भेज देती और मेरा काम होता उसे समझाना । अौर सचमुच वह कभी मेरी बात टालता नहीं था। अगर उसे मेरी किसी परेशानी का पता चलता, तुरन्त मदद के लिये पहुँच जाता।

           एक बार उसकी माँ ने मुझसे कहा कि वह पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे रहा है । इसलिए पास आते परीक्षा के लिए अच्छे से तैयारी करने के लिए मैं उसे समझाऊं। एक दिन मैंने उसे अपने पास बैठाकर,  उससे बस इतना कहा – “अगर तुम इस परीक्षा में अच्छे नंबर लाअोगे, तब  मेरी ओर से तुम्हारे लिए तुम्हारा मनपसंद उपहार पक्का रहेगा।” अचानक मैंने देखा उसकी  आँखे आँसू भरी थी। मुझे कुछ कारण समझ नहीं आया। पर  मैंने आगे कुछ कहना ठीक नहीं समझा। इसके कुछ समय बाद हम लोग दूसरे शहर में शिफ्ट कर गए। 

           ***

 एक रात मैंने एक अजीब सा सपना देखा। एक बड़े से छत पर  लंबा चौड़ा आयोजन चल रहा था। वहाँ पर काफी लोग थे। मैंने देखा  छत के दूसरे हिस्से पर, दूर  वह  बैठा था।  मैंने उसे देखा। मुझे पूरा विश्वास था कि हमेशा की तरह वह खुद ही भागता दौड़ता मेरे पास आएगा और अपनी ढेरों बातें सुनाना शुरू कर देगा। पर  वह अपनी जगह से  नहीं उठा।  थोड़ी देर के बाद मैं उसके पास गई और बातें करने लगी। उसने मुझसे कहा -“मुझे  तुम्हारे पास आने का बहुत मन था।”  मैंने पूछा – “फिर आए क्यों नहीं?” उसने  पूछा – “तुम्हें मालूम नहीं क्या हुआ है मेरे साथ?  मेरे पैरों में बहुत चोट  है, बहुत दर्द है। मैं चल नहीं पा रहा हूं अौर तैर भी नहीं पा रहा हूं इसलिए तो नहीं आया।” उसकी बातें अजीब अौर अटपटी लगी । पर यह तो सपना था ।

             

 कुछ समय बाद अचानक खबर मिली कि उसने अपने घर के सामने के कुएं में कूद कर आत्महत्या कर ली। कारण पता नहीं चल सका। मैं हैरान थी। इतना खुशमिजाज, जिंदादिल लङका आत्महत्या कैसे कर सकता है?  मैं बहुत समय तक विषाद-ग्रस्त  अौर उदास रही । काफी समय के बाद मुझे उसकी मां से मिलने का मौका मिला।

उसकी मां ने बताया कि वह मरने से पहले मेरे पास आने के लिए अक्सर अपने घर में जिद किया करता था और उसकी मृत्यु आत्महत्या नहीं थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चल रहा कि किसी ने उसकी पैरों में बहुत बुरी तरह मारा था। उसके बाद उसे कुएं में डाल दिया था और वह शायद तैर कर निकल भी नहीं सका होगा। उसकी मां ने रोते-रोते यह सारी कहानी सुनाई और मैं हतप्रभ चुपचाप, आँसू भरी आँखों से उनकी बातें  सुनती रही।

मैं उन से यह कह भी  नहीं  सकी कि उसने अपनी मृत्यु की रात हीं मुझे यह सब बातें  मेरे सपने में आकर बताया था। पता नहीं इसे क्या कहेगें?  मेरा वहम ….सच्चाई…. सपना…. रहस्य ….  टेलीपैथी….. कुछ और……पर मेरे लिये कभी ना भूलने वाला दुखद सपना बन गया। वह क्यों आया था मेरे पास? अपना उपहार लेने या मुझ से मिलने? 

Image courtesy internet.