आधा चाँद

आधे चाँद का दर्द

वही समझ सकता है,

जो आधा अधूरा होने

का एहसास जानता है.

चाँद जानता है

जल्दी ही वह पूरा हो कर आएगा .

भले हीं एक दिन के लिये हीं……

वह पूरा होने की जद्दो -जहद में

दस्तूर निभाता रहता है………

यह सोच कर कि उसका इंतज़ार

और सब्र काम आएगा।

जिंदगी के रंग -117

मेरे ख्याल में दिल की सच्ची अभिव्यक्ति ही सही लेखन है। यह कविता किसी ब्लॉगर द्वारा की गई सराहना का परिणाम है- Aapki kavitayein bahot hi achi lagti hai hamein!!

The secret of good writing is telling the truth. – Gordon Lish

Rate this:

कुछ जिंदगी की हकीकत, कुछ सपने,

थोङी कल्पनाअों के ताने-बाने

जब शब्दों में ढल कर

अंगुलियों से टपकते हैं पन्ने पर।

तब बनती हैं कविता।

जो अंधेरा हो ना हो फिर चांद अौर बिखरी चाँदनीं दिखाती हैं।

जो लिखे शब्दों से दिल में सच्चा एहसास जगाती हैं।

ऐसे जन्म लेती हैं कविताएँ -कहानियाँ।

 

जिंदगी के रंग – 98

चाँद चुराया

अरमानों को पूरा करने के लिए .

कई रातों की नींद अौर

साज़िश ख़्वाबों की

पूरी  नहीं होने दीं।

ज़ुबा बया करती रही अपने ज़ज़्बात।

पर……….

तेज़ बयार चली और अरमानों  का चाँद

छुप गया बादलों के आग़ोश में.

आवाज़ बिखर गई

टूटे काँच की किरचियों की तरह,

साथ हीं बिखर गए अरमानों के टुटे टुकड़े।

 

 

धृष्ट चाँद

पूनम का धृष्ट चाँद बिना पूछे,

बादलों के खुले वातायन से

अपनी चाँदनी को बड़े अधिकार से

सागर पर बिखेर गगन में मुस्कुरा पड़ा .

सागर की लहरों पर बिखर चाँदनी

सागर को  अपने पास बुलाने लगी.

लहरें ऊँचाइयों को छूने की कोशिश में

ज्वार बन तट पर सर पटकने लगे .

पर हमेशा की तरह यह मिलन भी

अधूरा रह गया.

थका चाँद पीला पड़ गया .

चाँदनी लुप्त हो गई .

सागर शांत हो गया .

पूर्णिमा की रात बीत चुकी थी .

पूरब से सूरज झाँकने लगा था .

तालीम अौर रियाज़

खुशबू ने सीखाया बिखरना,

चाँद ने खामोशी।

खुद से गुफ्तगू करना सीखाया निर्झर ने,

 ख्वाहिशों ने सीखाया सज़्दा – इबादत करना।

तनहाई, अकेलेपन  ने   फरियाद, शिकवा

पर

दुनिया के भीङ में भटकते- भटकते भूल जाते हैं सारे तालीम

शायद रियाज़ों की कमी है।

रंग बदलता सूरज

सुबह का ऊगता सूरज,

नीलम से नीले आकाश में,

लगता है जैसे गहरे लाल रंग का माणिक…..रुबी…. हो,

अंगूठी में जङे नगीने की तरह।  

दूसरे पहर में विषमकोण में  कटे हीरे

की तरह आँखों को चौंधियाने लगता है ।

सफेद मोती से दमकते चाँद के आगमन की आगाज़ से

शाम, पश्चिम में अस्त होता रवि रंग बदल फिर

पोखराज – मूंगे के पीले-नारंगी आभा से

रंग देता है सारा आकाश।

रंग बदलते सूरज

की रंगीन रश्मियाँ धरा को चूमती

पन्ने सी हरियाली से 

  समृद्ध करती हैं…

 

image courtesy  google.

चाँद The moon

उस रात पूरा  चाँद थोड़ा 

मेरी ओर झुक आया ..

हँसा …..

बोला …..

अब फिर अमावस का अँधेरा मुझे घेरने लगेगा .

पर मैं हार नहीँ मानता कभी .

जल्दी ही पूरा हो कर 

फ़िर आऊँगा …

शब्बा  ख़ैर ! ! ! !